General Life & Relationship

ऐसे कौन कौन सी गलतियां है, जो युवाओं को कभी नहीं करना चाहिए।

ऐसे कौन कौन सी गलतियां है, जो युवाओं को कभी नहीं करना चाहिए।
Written by admin

युवाओं को हमारे देश की रीढ़ माना जाता है, क्योंकि वह आज जो भी काम करते हैं उसका असर कल हमारे देश पर पड़ता है। इसलिए हमें हमेशा केवल अपने ही नहीं लेकिन अपने देश के लिए भी सोचना चाहिए। जहां युवावस्था में कई बार गलत आदतों और अनियमित चीजों की आदत भी युवाओं को लग जाती है, जो आज हम आपको बताने जा रहे हैं।

युवाओं को हमारे देश की रीढ़ माना जाता है, क्योंकि वह आज जो भी काम करते हैं उसका असर कल हमारे देश पर पड़ता है। इसलिए हमें हमेशा केवल अपने ही नहीं लेकिन अपने देश के लिए भी सोचना चाहिए। जहां युवावस्था में कई बार गलत आदतों और अनियमित चीजों की आदत भी युवाओं को लग जाती है, जो आज हम आपको बताने जा रहे हैं।

1. नशा करना

नशा करना

आपको बता दें कि आजकल यह शौक बन चुका है। जहां पहले केवल लोग मस्ती में दोस्तों के साथ बैठकर एक मस्ती के तौर पर इस्तेमाल करते थे, लेकिन आज यह देखा जा रहा है कि लोगों को उनकी लत लग गई है वे पूरी तरह से इसके आदि हो चुके हैं और शायद वे यह नहीं जान पाते हैं कि यह उनकी ही नहीं बल्कि उनके परिवार के सभी सपनों को बर्बाद कर देता है और सारे सपने तोड़ देता है।

2. पैसे की बर्बादी

पैसे की बर्बादी

यह लगभग अब हर घर में किसी ना किसी के द्वारा होती ही है। जिसमें अधिकांश युवा ही होते हैं। जहां लोगों के सामने अपने आप को साबित करने के लिए वे अपने माता-पिता से महंगी- महंगी चीजें खरीदने की जिद करते हैं। माना कि शौक सबका होता है पर घर वालों को तंग करके पूरा किया गया शौक नहीं इसे मूर्खता में गिना जाता है, जो केवल और केवल पैसे की बर्बादी है।

3. गलत संगति

गलत संगति

वो कहते हैं ना “संगत से गुण आवत है तो संगत से गुण जात” यह बिल्कुल सच है। संगत अपनी रंगत एक दिन अवश्य लाती है। इसलिए कभी भी आप खुद के लिए गलत संगति को मत चुनिए। इसका प्रभाव आपके आचरण पर पड़ता है। अगर आपके दोस्त अच्छे होंगे तो आप में भी अच्छे गुण आएंगे। जहां गलत संगति आपकी जिंदगी के केवल महत्वपूर्ण पल को आपसे छिनती हैँ।

4. अनुचित गैर संबंध

अनुचित गैर संबंध

यह आजकल ऐसा काम बन चुका है, जो अधिकांश युवाओं द्वारा किया जाता है। आपको बता दें कि हमारे भारतीय संस्कृति को पूरी दुनिया में बहुत पवित्र माना जाता है, लेकिन अब लोग पश्चिमी सभ्यता को अपनाते जा रहे हैं। जहां बहुत से लोग शादी से पहले या शादी के बाद भी बाहरी संबंध रखते हैं, जो समाज में कतई नहीं होना चाहिए। यह आपके व्यक्तित्व को भी दर्शाता है।

5. लोगों को आकर्षित करना

लोगों को आकर्षित करना

युवाओं में अक्सर यह देखा गया है कि आधी युवावस्था तो उनकी दूसरों को आकर्षित करने में ही निकल जाती है।बिना कुछ हासिल किए, बिना सफल हुए इन युवाओं को लगता है कि वे यह सब करके सब कुछ हासिल कर सकते हैं, लेकिन ऐसा कतई नहीं है। यह आपकी आदत को बिगाड़ता है। हमें अपने जीवन में कामयाब बनने के लिए बहुत ही प्रेरणा की जरूरत होती है।

6. गलतियां

गलतियां

गलती हर किसी से होती है पर यह लाजमी है, लेकिन जब युवा होते हैं तब उनकी अहमियत पता नहीं होती है और जाने अनजाने में हम कुछ ऐसी गलतियां को कर बैठते हैं जो हमारे भविष्य पर भारी असर डालती है। हमेशा से दिमाग में यही बिठा लें कि आपके द्वारा कोई भी गलती नहीं होगी। ऐसा करने से आप गलत चीजों से कोसों दूर रहने में कामयाब हो सकते हैं।

7. परिवार और समाज

परिवार और समाज

केवल अपने बारे में सोचना इंसान के लिए भारी पड़ सकता है, क्योंकि यह प्रवृत्ति मनुष्य में बिल्कुल होनी चाहिए कि वह हमेशा सबसे पहले अपने समाज और परिवार को महत्व दें और उनके बारे में सोचें। इससे आपको बहुत खुशी मिलती है, लेकिन आजकल तो युवाओं पहले खुद के बारे में उसके बाद भी शायद अपने परिवार और समाज का ख्याल उनके दिमाग में नहीं आता है।

8. सोशल साइट का रुझान

सोशल साइट का रुझान

हर व्यक्ति अपने जीवन में बहुत से दोस्तों से मिलता है, लेकिन इंटरनेट के दौर के आ जाने से लोग असली जीवन के दोस्तों को भूल कर सोशल साइटों पर दोस्ती की भाल में लगे रहते हैं। जहां पर यह कहना गलत नहीं होगा कि सोशल साइट के चक्कर में बहुत से युवा आज अपनी जिंदगी बर्बाद कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें इस में घटी घटना और इससे जुड़ी सारी चीजें ही सही लगती है।

9. बड़ों की बातें ना सुनना

बड़ों की बातें ना सुनना

आज युवाओं में आजादी की ऐसी होर है कि वह अपने माता-पिता और बड़ों का सत्कार करना भी भूल चुके हैं। जिन्होंने आप को चलना सिखाया, बोलना सिखाया वह आप को कैसे गलत सलाह दे सकते हैं।वह हमेशा आप के भले के लिए सोचते हैं, लेकिन आजकल के युवाओं को कौन समझाए उन्हें तो भले की बातें आजकल सुननी तक पसंद नहीं होती जिसे वह नजरअंदाज करते हैं।

10. बड़ों की बातें ना सुनना

समय बर्बाद करना

जिस तरह से आज युवाओं में बेवजह की चीजों की तरफ रुझान देखा जा रहा है। वह केवल उनके समय की बर्बादी है, जिसे वह समझ नहीं पाते हैं और यदि उन्हें कोई इस विषय में बतलाए तो वही इंसान गलत हो जाता है।ऐसे में जब युवाओं में बेरोजगारी जैसी समस्या उत्पन्न होती है तब जाकर उन्हें एहसास होता है, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

Leave a Comment