General Health

टॉप 10 स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या और उनके घरेलू नुस्खे

टॉप 10 स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या और उनके घरेलू नुस्खे
Written by admin

आज जैसे हम अनियमित तरीकों से चीजों का सेवन कर रहे हैं, उससे कई तरह की बीमारियां हमारे अंदर पनप रही है, लेकिन आपको इसके लिए चिंतित होने की बिल्कुल जरूरत नहीं है।आज हम कुछ बीमारियों के लिए ऐसे घरेलू नुस्खे लाए हैं जिससे आप बिल्कुल आसानी से अपना सकते हैं और यह काफी उपयोगी और प्रभावशाली माना जाता है।

आज जैसे हम अनियमित तरीकों से चीजों का सेवन कर रहे हैं, उससे कई तरह की बीमारियां हमारे अंदर पनप रही है, लेकिन आपको इसके लिए चिंतित होने की बिल्कुल जरूरत नहीं है।आज हम कुछ बीमारियों के लिए ऐसे घरेलू नुस्खे लाए हैं जिससे आप बिल्कुल आसानी से अपना सकते हैं और यह काफी उपयोगी और प्रभावशाली माना जाता है।

#1 सर्दी

आजकल सर्दी जुकाम ऐसी समस्या हो गई है, जहां हर कोई इससे परेशान है,लेकिन इसका उतना ही आसान इलाज है। अगर सर्दी को आप हमेशा के लिए दूर रखना चाहते हैं या उससे बचना चाहते हैं तो आप पत्तेदार साग और विटामिन सी से भरपूर पदार्थ का सेवन करें। यह आपको ऊर्जा तो देगा ही इसके साथ आप में रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाएगा।

सर्दी

#2 पाचन के लिए पुदीना

एक प्राकृतिक जड़ी बूटी के तौर पर पुदीना आज खूब प्रचलित है जहां इसकी पत्तियों को चाय के लिए सुखाया जाता है। इसके साथ ही इसका उपयोग इसके अंदर के तेलों को निकालने के लिए किया जाता है। पुदीना का चाय पीना या एक गिलास पानी में तेल की कुछ बूंदें मिलाकर लेना पाचन में मदद कर सकता है। यह रात के खाने के बाद लेना काफी उपयोगी और प्रभावशाली माना जाता है।

#3 हिचकी आए तो चीनी खाएं

चीनी का ज्यादा उपयोग करना हमारे सेहत के लिए नुकसान को दर्शाया जाता है जो कि पूर्ण रूप से सही भी है। लेकिन आपको बता दें कि चीन एक कार्बोहाइड्रेट है। जिसका खास असर मधुमेह और वजन बढ़ाने से इसका प्रभाव मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र पर भी पड़ सकता है……… लेकिन आप शायद चौक जायेंगे की हिचकी के मामले में चीनी सबसे तेज और सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले उपचारों में से एक है।

#4 मधुमक्खी के डंक पर बेकिंग सोडा

यह कई लोगों को पता है कि मधुमक्खी के डंक पर बेकिंग सोडा का इस्तेमाल करते हैं। आपको पानी और बेकिंग सोडा से एक पेस्ट बनाना होता है,जो लालिमा और खुजली को कम करती है। इतना ही नहीं यदि आपको पैरों की दुर्गंध की समस्या है तो गंद का मुकाबला करने के लिए अपने जूतों में बेकिंग सोडा छिड़क लें और चीजों को शुघते रहे।इससे आप काफी ताजा महसूस करेंगे।

#5 गले की खराश के लिए लहसुन है रामबाण

लहसुन हमेशा से एक चमत्कारिक रामबाण के रूप में उभर कर सामने आया है। जहां कच्चा लहसुन वास्तव में बेहतर काम करता है,क्योंकि खाना पकाने से इसका प्रभाव कम हो सकता है। जब आप बीमार होते हैं तो बहुत सारे लहसुन के साथ चिकन सूप को एक गर्म कटोरा आपके साइनस को साफ कर सकता है और उपचार प्रक्रिया के साथ गति हो सकती है। यह सस्ता और उपयोग करने में काफी आसान माना जाता है।

#6 जली या कटी हुई जगह पर एलोवेरा लगाएं

एलोवेरा ऐसा एक घरेलू नुस्खा माना जाता है, जो ना जाने कितने रोगों में सहायक है। आप जलने,कटने या अन्य जगह पर एलोवेरा का प्रयोग आसानी से कर सकते हैं। इतना ही नहीं एक ऐसा घरेलू नुस्खा है जो अधिकांश लोगों द्वारा उपयोग के लिए सुरक्षित माना जाता है। यह उन पौधों में से एक है, जो हर घर में होने चाहिए। गर्मियों के दिन में इसे बाहर रखने एवं ठंड के दिन में घर में रखने की सलाह दी जाती है।

जली या कटी हुई जगह पर एलोवेरा लगाएं

#7 गठिया में सेब का सिरका

एक प्राचीन नुस्खा के रूप में आज भी इस्तेमाल किए जाने वाला सेब का सिरका जिसका उपयोग कई बीमारियों का इलाज करने के लिए किया जाता है। यह केवल इतना ही नहीं करता…… बल्कि यह दावा किया जाता है कि इसकी मदद से गठिया के लक्षण को दूर किया जा सकता है। इसके साथ यह संक्रमण को रोक सकता है और हमारी याददाशत में सुधार लाता है।

#8 पुरानी सूजन के लिए मछली का तेल

मछली के तेल में प्राथमिक घटक ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है, जो मानव शरीर द्वारा आवश्यक कुछ स्वस्थ वसा प्रदान करता है।ओमेगा-3 पुरानी सूजन को आसानी से रोकने से में मदद करता है और हमें काफी राहत पहुंचाता है। इसके साथ ही जो हमें पूरी तरह से सभी रोगों से बचाता है और स्वस्थ रखता है।

#9 दांत में दर्द है,तो तिल खाएं

यदि आपको कभी आपके दांत या मसूड़ों में दर्द महसूस हो तो तिल के बीज में दर्द को कम करने की क्षमता होती है। चार चम्मच तिल के बीज को उबलते पानी के एक कप में डालने और ठंडे होने के लिए छोड़ दें।इसके उपयोग से आपको तुरंत राहत मिलेगी। इसके अलावा आप इस तरह की बीमारी में लॉन्ग का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।लॉन्ग को पानी में मिलाएं और पेस्ट बना लें फिर दांत पर लगाए, यह बहुत फायदेमंद उपचार माना जाता है।

#10 केला खाएं और चिंताओं से दूर रहें

यह माना जाता है कि केला एक अमीनो एसिड है, जो कि मेलाटोनिन और सेराटोनीन हार्मोन का उत्पादन करने में मदद करता है, जो शांति की भावना को बढ़ावा देता है।केवल इतना ही नहीं केले में पोटेशियम की मात्रा अधिक होती है, जो हमारे रक्तचाप को विनियमित करने में मदद कर सकते हैं, जो अक्सर चिंतित होने पर उठाया जाता है।

Leave a Comment