Filmi News General

मिशन मंगल मूवी रिव्यू in Hindi

मिशन मंगल मूवी रिव्यू in Hindi
Written by admin

15 अगस्त के मौके पर रिलीज हुई अक्षय कुमार स्टारर फिल्म मिशन मंगल का इंतजार बेसब्री से सभी दर्शकों को था। ट्रेलर के रिलीज होने के बाद ही लोगों में इस फिल्म के प्रति गजब का उत्साह देखा गया था।

मिशन मंगल मूवी रिव्यू in Hindi

15 अगस्त के मौके पर रिलीज हुई अक्षय कुमार स्टारर फिल्म मिशन मंगल का इंतजार बेसब्री से सभी दर्शकों को था। ट्रेलर के रिलीज होने के बाद ही लोगों में इस फिल्म के प्रति गजब का उत्साह देखा गया था।

आपको बता दें कि यह एक सच्ची घटना पर आधारित एक फिल्म है। जहां भारत को एक ऐसा देश बताया गया है जिसने पहली ही बार में मिशन मंगल पर सफलता पाई है। माना जा रहा है कि अभी तक स्पेस साइंस पर बनी यह पहली बॉलीवुड फिल्म है। जिसका निर्देशन जगन शक्ति द्वारा किया गया है। वहीं इस फिल्म में अक्षय कुमार के अलावा विद्या बालन, सोनाक्षी सिन्हा, तापसी पन्नू, नित्या मेनन, कीर्ति कुल्हारी, शर्मन जोशी,विक्रम गोखले….. यह सभी लोग इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे हैं।

आपको बता दें कि स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन के मिशन मार्स प्रोजेक्ट पर आधारित यह फिल्म महिला वैज्ञानिकों के चारों ओर घूमती दिखाई दी। जिन्होंने रॉकेट तैयार कर इस असंभव मिशन को पूरा किया। वहीं इस फिल्म की रिव्यू की बात करें तो दर्शकों को फिल्म की स्टोरी लाइन और सब्जेक्ट बेहद पसंद आया। यह फिल्म बेहद ही अच्छे तरीके से शूट की गई है। इसकी महिमा और सक्सेस को बेहद शानदार तरीके से दर्शाया गया है।

वहीं यह भी बताया जा रहा है कि फिल्म बहुत ही हड़बड़ी में बनी है। अंतरिक्ष विज्ञान के उपकरण बचकाने हैं और तरल ईंधन का महत्व समझाने के उदाहरण दे चुके हैं। पिछले कुछ समय से भारतीय सिनेमा कुछ ऐसे ही असाधारण नायकों की कहानियां कह रहा है,जिनकी उपलब्धि से समान इंसानियत और देश को दिशा मिलती है और एक नया प्रेरणास्रोत हासिल होता है।
ऐसी ही एक असाधारण कहानी है फिल्म मिशन मंगल की-

कहानी- यह कहानी है राकेश धवन की जो इसरो में एक वैज्ञानिक है।

कहानी- यह कहानी है राकेश धवन की जो इसरो में एक वैज्ञानिक है।

राकेश को GSLV c39 प्रोजेक्ट के तहत रॉकेट भेजने का जिम्मा दिया जाता है। मगर मंगल मिशन असफल हो जाता है। ऐसे में उनका तबादला कई सालों से बंद पड़े मिशन मंगल डिपार्टमेंट में कर दिया जाता है। वहां उनकी मुलाकात एक दूसरी वैज्ञानिक से होती है जिनका नाम तारा शिंदे है।वही तारा शिंदे भी काफी समय से इस डिपार्टमेंट में है। एक दिन अचानक तारा को होम साइंस के आधार पर अंतरिक्ष में रॉकेट भेजने का आईडिया आता है। किस तरह से यह मिश्रण प्रतिरोधों के बावजूद पूरा होता है। वाकई में यह स्थिति पर आधारित है कि किस तरह से अंतरिक्ष में यान भेजा जाता है और किस तरह से बनाई जाती है।

गौरतलब है कि यह ऐसा मिशन रहा जिसे देख कर दुनिया हैरत में पड़ गई, क्योंकि स्पेस की दुनिया का यह सबसे सस्ता और सफल अभियान रहा है। निर्देशक जगन शक्ति इस कहानी को बहुत ही खूबसूरती से स्क्रीनप्ले में ढाला है। सारे किरदार उन्हीं के इशारे पर पूरी पकड़ के साथ पर्दे पर नजर आते हैं। इस फिल्म में सिर्फ स्पेशल इफेक्ट और कंप्यूटर ग्राफिक्स पर काम किया जाता तो और भी बेहतर हो सकता था।वही अक्षय कुमार के अभिनय की बात करें तो वह राकेश धवन कि किरदार में पूरी तरह से जच रहे हैं।

वही तारा शिंदे के किरदार में विद्या बालन ने भी बहुत खूबसूरती से परफॉर्म किया है। इसके अलावा सोनाक्षी सिन्हा और ताप्सी पन्नू ने भी अपना किरदार काफी ईमानदारी से निभाया है। कुल मिलाकर मिशन मंगल एक ऐसी कहानी है, जो आपको एक भारतीय होने के नाते गर्व और देशप्रेम से भर देती है और जहां देश प्रेम होता है, वहां के लोगों में भावना आ जाती है और वह छोटी मोटी गलतियों को माफ कर देते हैं। वहीं निर्देशक जगन शक्ति ने इस फिल्म के जरिए अपना डेब्यू किया है। निस्संदेह एक साइंस और सच्ची ऐतिहासिक घटना पर आधारित फिल्म के साथ वह अपना प्रभाव जमाने में कामयाब रहे हैं। यह बात भी रिव्यू में सामने आई है कि उन्होंने किरदारों को मास अपील देने के लिए कई जगह पर बचकानी भी लगती है। मगर इसके बावजूद उन्होंने इमोशनल के सिरे को मजबूती से पकड़ रखा है। वही अमित त्रिवेदी के संगीत में मिशन मंगलम गाना भी लोगों को काफी अच्छा लगा है।

Leave a Comment