General Life & Relationship

सच्चे प्यार और लगाव में क्या फर्क होता है ?

सच्चे प्यार और लगाव में क्या फर्क होता है
Written by admin

लोगों को अक्सर प्यार को गहरे लगाओ के बीच काफी उलझते देखा गया है। जहां अक्सर लोग लगाओ को ही सच्चा प्यार समझने लगते हैं। यदि आप इस तरह की भूल से बचना चाहते हैं तो आज हम चर्चा करेंगे कि प्यार और गहरी लगाओ में क्या अंतर होता है:-

लोगों को अक्सर प्यार को गहरे लगाओ के बीच काफी उलझते देखा गया है। जहां अक्सर लोग लगाओ को ही सच्चा प्यार समझने लगते हैं। यदि आप इस तरह की भूल से बचना चाहते हैं तो आज हम चर्चा करेंगे कि प्यार और गहरी लगाओ में क्या अंतर होता है:-

सच्चे प्यार और लगाव में क्या फर्क होता है ?
  1. जब आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं तो वह वही चीज है जो बाकी चीजों से अलग होता है। उसके लिए आपको किसी तरह के रिलेशनशिप में होने की जरूरत नहीं होती, लेकिन जब यह सिर्फ लगाव होता है तो आप इसे परफेक्ट बनाने की कोशिश करते रहते हैं।
  2. सच्चा प्यार और लगाव में सबसे गहरा अंतर यह है कि सच्चा प्यार स्वार्थ रहित होता है और लगाओ स्वार्थी, क्योंकि जब आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं तो उस इंसान को हमेशा खुश रखने या उसपर ध्यान देते हैं।ताकि आप अपने साथी को अपना सच्चा प्यार महसूस करा सके, लेकिन जब आपका किसी से लगाओ होता है तो उसे पूरा खुश रखने के लिए कई तरीके ढूंढने लगते हैं और हमेशा यह सोच रखते हैं कि वह आपकी खुशियों के लिए जिम्मेदार है।
  3. सच्चा प्यार हमेशा के लिए होता है लेकिन लगाओ बस थोड़े पल के लिए होता है।
    प्यार का मतलब अगर आप चाहे साथ हो या ना हो एक दूसरे के दिल में प्यार होना.. इसकी निशानी है और हमेशा अपने दिल में उस इंसान के लिए जगह रहती है, लेकिन वही यह प्यार नहीं बल्कि लगाव है तो वह रिश्ता ज्यादा लंबे समय तक नहीं चलता है, क्योंकि वह आकर्षण कुछ समय के लिए ही होता है, जो कुछ समय बाद खुद-ब-खुद खत्म हो जाता है।
  4. सच्चा प्यार में आजादी है तो लगाओ में केवल बंधन……।। इस बात से शायद कोई भी नहीं नकार सकता कि जब आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं तो उसे खोने का डर नहीं होता है ना ही आप अपने साथी पर रोक टोक करते हैं, क्योंकि आपको यह बिल्कुल भी डर नहीं होता कि आपका सच्चा प्यार आपसे दूर चला जाएगा, लेकिन जब आपका किसी से लगाव होता है तो आप की यह मंशा होती है कि उस व्यक्ति को कंट्रोल कैसे करें।आपको डर सताता है कि कहीं वह आपसे दूर ना चला जाए।
  5. सच्चा प्यार और लगाव दोनों ही विपरीत है सच्चा प्यार लगाव से एक परिप्रेक्ष्य से बिल्कुल विपरीत चीज होती है।सच्चा प्यार में जहां लेने का नहीं देने का भाव होता है, वही लगाओ में भी देने का भाव होता है,लेकिन यह लेने की शर्त पर टिका होता है। इसलिए यदि उसे लेना नहीं मिलता तो बेशक उसका देना भी खत्म होने लगता है।
  6. सच्चा प्यार में शरीर के पास या दूर होने से कोई मतलब नहीं होता प्यार में केवल मन का मिलाओ काफी है, लेकिन यह बिल्कुल सच है कि लगाव मे दो शरीर पास रहना चाहते हैं।जबकि प्यार में ऐसी कोई भी शर्त नहीं होती है वह बस एक बेमतलब सा रिश्ता होता है।
  7. सच्चा प्यार में लोग एक दूसरे को जानते हैं। एक दूसरे को क्या पसंद है और क्या नहीं यह सारी बातें एक प्यार करने वाले शख्स के लिए बेहद जरूरी मानी जाती है,लेकिन लगाव सिर्फ खुद को जानता है लगाव यदि दूसरे को जानता है तो सिर्फ और सिर्फ उसकी खातिर यह केवल एक तरफा होता है।
  8. हमें जब लगाव होता है तो शायद हम उसका रंग, रूप जो भौतिक वस्तुएं हैं उन्हें देखते हैं, लेकिन जब वह भौतिक वस्तुएं अपने मूल रूप में नहीं रहती तो हमारा आकर्षण उस इंसान के प्रति धीरे-धीरे खत्म हो जाता है, लेकिन यदि आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं तो यह पक्का है कि आपको इन सब चीजों से जरा भी फर्क नहीं पड़ेगा। आप केवल उस शख्स की खुशी चाहेंगे।
  9. सच्चा प्यार हमें मुक्ति देता है लेकिन लगाव हमें नियंत्रित करता है। सच्चा प्यार हमेशा आपको खुद के लिए सच्चा होने की अनुमति देता है। जहां आपका साथ ही हमेशा प्रोत्साहित करता है कि आप वास्तव में वही है जो आप हैं, क्योंकि सच्चा प्यार नियंत्रित नहीं होता है। वहीं दूसरी ओर लगाव अपने व्यवहार को नियंत्रित करने की कोशिश करता है, जो ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाता है।
  10. यदि आप सच्चा प्यार में है तो आप अपने साथ साथ अपने साथी को भी आगे बढ़ाएंगे।
    जहां आप खुद के साथ-साथ अपने साथी को भी सर्वश्रेष्ठ बनाना चाहते हैं, लेकिन लगाव में अक्सर आपकी अपनी समस्याओं को हल करने की आपका नियंत्रण और आपकी और अक्षमता आपके विकास के साथ-साथ आपके सोच के विकास को भी सीमित करती है।
  11. आपको जब किसी से सच्चा प्यार होता है तो आपको सिर्फ उसी से नहीं बल्कि उससे जुड़ी सभी बात और सभी आदतों से आपको प्यार हो जाता है, लेकिन एक लगाव में आप केवल एक खास मकसद के लिए होते हैं और केवल वही चीजें आपको पसंद आती है।

बताए गए इस आर्टिकल को पढ़कर आप यह तो पूरी तरह से समझ गए होंगे कि सच्चा प्यार और लगाव क्या होता है और दोनों के बीच क्या फर्क है।
अगर आप अभी भी प्यार में नहीं पड़े हैं तो उसे पढ़कर यह पूरी उम्मीद है कि अब आप खुद के लिए एक प्यार करने वाले को चुनेंगे ना कि गहरे लगाव वाले इंसान को।

Leave a Comment