General Poilitics

Top 10 great politicians in India with detail description

Top 10 great politicians in India with detail description
Written by admin

नेता जो हमारे देश के लिए काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते आए हैं। इसके अलावा आपको बता दें कि यह वही लोग होते हैं जो देश के लिए महत्वपूर्ण फैसले भी लेते हैं, तो आइए आज हम आपको उन 10 महान नेताओं की सूची के बारे में बताते हैं जिनसे शायद आप अवगत नहीं होंगे:-

Top 10 great politicians in India with detail description

नेता जो हमारे देश के लिए काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते आए हैं। इसके अलावा आपको बता दें कि यह वही लोग होते हैं जो देश के लिए महत्वपूर्ण फैसले भी लेते हैं, तो आइए आज हम आपको उन 10 महान नेताओं की सूची के बारे में बताते हैं जिनसे शायद आप अवगत नहीं होंगे:-

1. नरेंद्र मोदी

नरेंद्र मोदी

भारत के सबसे मशहूर नेताओं में से एक माने जाने वाले नरेंद्र मोदी भारत के लिए अहम फैसले लेने से कभी नहीं चुके हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई योजनाओं और नीतियों का शुभारंभ किया है। अपने पहले कार्यकाल को संभालने के बाद उनके पास दूसरे कार्यकाल में कार्मिक लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय, परमाणु ऊर्जा विभाग के अतिरिक्त प्रभार है।

2. अमित शाह

अमित शाह

भाजपा में जबरदस्त ताकत फूंकने के लिए अमित शाह शीर्ष पर है। शायद यही वजह थी कि अमित शाह को पहले कार्यकाल में पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया फिर गृह मंत्री,क्योंकि यह सत्य है कि पूरे देश में भाजपा का विस्तार करने के लिए अमित शाह ने कई अहम कदम उठाए हैं और शायद यही वजह है कि अमित शाह पीएम मोदी के विश्वास पर हमेशा खड़े उतरते हैं।

3. अरुण जेटली

अरुण जेटली

नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में अरुण जेटली ने वित्त मंत्री के तौर पर सरकार के बड़े धमाकेदार फैसलों का भार उठाते आए हैं फिर चाहे वह विमुद्रीकरण हो या जीएसटी……इसके अलावा आपको बता दें कि अरुण जेटली प्रणब मुखर्जी को एक रूढ़िवादी और प्रतिगामी एफएम मानते हैं। जिन्हें लगता है कि प्रणब मुखर्जी मनमोहन सिंह से काफी बेहतर एफएम है।

4. मोहन भागवत

मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे बड़े सांस्कृतिक संगठन की कमान 9 साल तक चुनौतियों के साथ संभालने वाले मोहन भागवत आर एस एस के अलावा भारत की सामाजिक और बौद्धिक परिदृश्य पर एक मजबूत पकड़ बना चुके हैं।जिसमें पूर्व प्रचारकों में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के साथ-साथ राज्यपालों और विभिन्न संस्थानों के प्रमुखों के सभी महत्वपूर्ण पद है।

5. सोनिया गांधी

सोनिया गांधी

यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी भी विपक्षी तौर पर हमेशा एकजुट होकर काम करते रही है। इसके अलावा भी इस बात पर जोर देने पर प्रयास करते हैं कि एकजुट विपक्ष का अंकगणित कांग्रेस के बिना काम कर सकता है।उन्हें बांधने के लिए कोई रसायन नहीं होगा। वही एक रोचक बात आपको बता दें कि सोनिया गांधी की पसंदीदा मिठाई एक फ्रांसिस पेस्ट्री है।

6. ममता बनर्जी

ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के रूप में ममता बनर्जी ने खूब प्रतिक्रिया बटोरी है। इसके अलावा आपको बता दें कि बंगाल की दीदी राजनेताओं में से एक मानी जाती है जो बीजेपी के खिलाफ मजबूती से लड़ाई लड़ रही है और वह अपनी मौके से कभी भी नहीं चूकती है। लोकसभा 2019 में सभी ने इसका उदाहरण देखा था कि कैसे विपक्ष के तौर पर ममता बनर्जी ने भूमिका निभाई थी।

7. योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ

भाजपा के स्टार प्रचारक जो चुनाव आते ही अपनी मुख्यता का पूर्ण रूप से इस्तेमाल करने में जुट जाते हैं। इसके अलावा योगी आदित्यनाथ यूपी के मुख्यमंत्री के तौर पर कार्यरत है। वह उन हर राज्य की रैलियों में भाग लेते हैं जहां भाजपा चुनाव लड़ती है और उस राज्य को सांप्रदायिक रंग देने में अपना सबसे सर्वश्रेष्ठ देती है।

8. लालू प्रसाद

लालू प्रसाद

कुछ समय से यह चर्चा पर शायद विराम लगा है, लेकिन एक दौर था जब लालू की राजनीति में चलती थी……. लेकिन फिलहाल तो लालू प्रसाद भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में बंद पड़े हैं, लेकिन फिर भी कहीं ना कहीं वह बिहार की राजनीति को नियंत्रण कर रहे हैं। बाकी उनके बेटे पत्नी और बेटी ने इस बार कोशिश की थी लेकिन केवल हार का सामना करना पड़ा था।

9. राहुल गांधी

राहुल गांधी

हमेशा से पीएम मोदी के सामने खुद को एक चुनौती के तौर पर रखने वाले राहुल गांधी ने हाल ही में अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है और कांग्रेस पद की कमान एक बार फिर से सोनिया गांधी के हाथों में चली गई है। वहीं एक जरूरी बात बता दे कि राहुल गांधी गुजरात में अपनी पार्टी के प्रभारी का नेतृत्व करते आए हैं और बीजेपी के विपक्षी तौर पर खूब प्रतिक्रियाएं बटोरी है।

10. अखिलेश यादव

इस बार लोकसभा 2019 में असफल होने के बावजूद भी वह हमेशा से विपक्षी तौर पर हावी होती नजर आए हैं। इसमें भाजपा के चुनाव में गंभीर सेंध लगा दिए थे। वही मायावती के साथ गठबंधन बनाए रखने की चुनौती को स्वीकार करते हुए अखिलेश यादव ने सपा उम्मीदवारों के समर्थन की घोषणा की और राजनीति में एक अलग पहचान बनाई।

Leave a Comment