Health

20 Things You Should Know About Cholesterol Control

Written by admin

Cholesterol का नाम सुनते ही हमारे शरीर में घबराहट महसूस होने लगती है, लेकिन आज हम कुछ ऐसे तथ्यों से रू-ब-रू करवाएंगे जिनसे आप पूरी तरह अनजान है।

20 Things About Cholesterol Control
20 Things About Cholesterol Control

कोलेस्ट्रोल क्या है – What is cholesterol

Contents hide
4 2. HDL – High Density Lipoprotein Cholesterol
4.1 ट्राइग्लिसराइड्स क्या है और इससे कैसे बच सकते हैं – What is triglycerides and how to avoid it

Cholesterol का नाम सुनते ही हमारे शरीर में एक अजीब सी घबराहट महसूस होने लगती है, लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे तथ्यों से रू-ब-रू करवाएंगे जिनसे आप पूरी तरह अनजान है। आपको बता दें कि कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर का वह हिस्सा माना जाता है, जो हमारे शरीर को सही तरह से कार्य करने के लिए काफी आवश्यक होता है।

कोलेस्ट्रोल एक चिकना स्टेरॉइड होता है, जो ब्लड प्लाज्मा की मदद से हमारे पूरे शरीर में फैलता है। इसके अलावा आपको यह बता दे कि कोलेस्ट्रॉल की मात्रा जब हमारे शरीर में बढ़ जाती है तो हमारे अंदर खून का गाढ़ा होना तथा दिल की बीमारियों से जुड़े खतरों की आशंका बढ़ जाती है। इसलिए इस तरह के रोगों से बचने के लिए आपका कोलेस्ट्रोल नियंत्रित होना एक बहुत ही जरूरी विषय माना जाता है तो आइए जानते हैं Cholesterol से जुड़ी वो बातें जो आपके स्वास्थ्य के लिए काफी महत्वपूर्ण है।

Read this also…….SKIN DISEASE:- TYPES, CAUSES, SYMPTOMS, AND TREATMENT

  1. कोलेस्ट्रोल कितने तरह का होता है
  2. ट्राइग्लिसराइड्स क्या है और इससे कैसे बच सकते हैं
  3. कोलेस्ट्रोल टेस्ट कराने का सही समय
  4. कोलेस्ट्रोल होने का मुख्य कारण
  5. कोलस्ट्रोल में दिखने वाले लक्षण
  6. क्या है कोलेस्ट्रोल चार्ट
  7. कोलेस्ट्रोल में जोखिम के कारण
  8. कोलेस्ट्रोल की जटिलताएं
  9. उच्च कोलेस्ट्रॉल का निदान कैसे किया जा सकता है
  10. कोलेस्ट्रोल का इलाज
  11. लो कोलेस्ट्रॉल में कैसा भोजन लेना चाहिए
  12. हाई कोलेस्ट्रॉल में लिए जाने वाले भजन
  13. कोलेस्ट्रोल की समस्याओं की रोकथाम कैसे करें
  14. कोलेस्ट्रोल में खाए जाने वाली दवा
  15. घरेलू उपचार से कोलेस्ट्रोल को खत्म करे

Read this also……21 SIGNS YOU WORK WITH AMAZING PSYCHOLOGICAL FACT ABOUT BRAIN

कोलेस्ट्रोल कितने तरह का होता है – Types of cholesterol

Types of cholesterol
Types of cholesterol

1. LDL – Low Density Lipoprotein

आपको यह जानकारी दे दे कि इसे लो डेंसिटी लिपॉप्रोटीन के नाम से भी जाना जाता है। इसका कार्य काफी मुख्य और अहम माना जाता है, क्योंकि एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को लीवर से कोशिकाओं में पहुंचाता है लेकिन यह भी देखा गया है कि एलडीएल कोलेस्ट्रॉल की मात्रा ज्यादा होने पर यह हमारी कोशिकाओं के लिए हानिकारक साबित होता है। जहां कई बार यह हमारे शरीर में ब्लड सरकुलेशन सही तरह से काम ना करने की वजह बन जाता है। मनुष्य में रक्त में एलडीएल की मात्रा 70% तक होती है।

2. HDL – High Density Lipoprotein Cholesterol

इसे high-density लिपॉप्रोटीन कहते हैं, लेकिन आपको यह भी बता दें कि एचडीएल को एक अच्छा कोलेस्ट्रॉल के रूप में भी माना जाता है क्योंकि जब बड़े-बड़े विशेषज्ञों से बात की गई तब उन्होंने इस तर्क को साझा किया कि हम हमारे हृदय से जुड़ी सभी बीमारियां जैसे कोरोनरी हार्ट डिजीज, स्ट्रोक को आसानी से कम कर सकते हैं। यह हमारे शरीर के लिए काफी रूप से लाभकारी माना जाता है।

Read this also……THE 10 THINGS ABOUT LUNG CANCER AND CAUSES FOR HAVING LUNG CANCER.

ट्राइग्लिसराइड्स क्या है और इससे कैसे बच सकते हैं – What is triglycerides and how to avoid it

ट्राइग्लिसराइड एक ऐसा मुख्य कारणों में से एक माना जाता है, जिसकी वजह से हमारे शरीर में अनावश्यक मोटापा और चर्बी नजर आने लगती है पर हमारे शरीर को यह काफी प्रभावित भी करता है, क्योंकि जब हमारे शरीर में इसकी मात्रा बढ़ने लगती है तो धीरे-धीरे हमारी रक्त नदियों और शरीर के बाकी अंगों पर इसका काफी बुरा असर पड़ने लगता है, जिससे लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए यह बताया जाता है कि ऐसी स्थिति में ज्यादा मीठा और कैलोरी से भरपूर चीजों के सेवन से दूर रहें और इसके साथ ही रोजाना एक्सरसाइज के माध्यम से ट्राइग्लिसराइड्स के खतरों को रोका जा सकता है।

Read this also……महिलाओं में कमजोरी के कारण, लक्षण, एवं उपाय – WOMEN WEAKNESS IN HINDI.

कोलेस्ट्रॉल टेस्ट कराने का सही समय – The right time to have a cholesterol test

  cholesterol test
cholesterol test

हमारे शरीर में एक अच्छा और खराब कोलेस्ट्रोल पाया जाता है जिस आधार पर हमें कोलेस्ट्रॉल की जांच की सलाह दी जाती है। हालांकि आपको एक आवश्यक जानकारी बता दें कि खासकर पुरुषों को नियमित रूप से अपने कोलेस्ट्रॉल की जांच करवानी चाहिए, जिनकी उम्र 35 से अधिक हो चुकी है।

वहीं यदि आप एक महिला है और 45 से उससे कम उम्र मे आपको कोलेस्ट्रॉल की जांच करानी शुरू कर देनी चाहिए।सही तरह से अगर बात करें तो 20 वर्ष के बाद हर किसी को 5 वर्ष के अंतराल पर एक बार कोलेस्ट्रॉल की जांच अवश्य करवानी चाहिए। यदि आप कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करने के लिए कोई खास दवा ले रहे हैं तो यह आपके लिए बहुत ही आवश्यक है कि आप नियमित रूप से अपने शरीर की जांच और देखभाल करे।

सामान्य कोलेस्ट्रोल का स्तर-200MG/DL से कम
LDL130MG/DL से कम

सामान्य कोलेस्ट्रोल का स्तर- टोटल लेबल 240MG/DL से ज्यादा
LDL160MG/DL से ज्यादा

Read this also……HEART-HEALTHY DIET PLAN IN HINDI:- SOME FOODS THAT PREVENT HEART DISEASE.

कोलेस्ट्रोल होने का मुख्य कारण क्या है – What is the main cause of cholesterol

cause of cholesterol
cause of cholesterol

हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कई अनावश्यक कारण है, जिसे खास तौर पर हम नजरअंदाज कर देते हैं तो आइए जानते हैं कि कोलेस्ट्रोल के लिए कौन कौन से कारण जिम्मेदार हैं

1. यदि हम कोलेस्ट्रोल बढ़ाने वाले आहार जिनमें भरपूर मात्रा में वसा मौजूद होती हैं ऐसे आहार का सेवन करते हैं तो कोलेस्ट्रोल बढ़ने का खतरा होता है।

2. जब हमारा लीवर अधिक मात्रा में कोलेस्ट्रॉल बनाने लगता है तो उन कारणों से भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है।

3. यदि आपके परिवार में किसी को कोलेस्ट्रॉल की समस्या है तो यह आपको भी हो सकती है।

4. कई बार सामान्य से अधिक वजन होना भी कोलेस्ट्रोल का मुख्य कारण माना जाता है, क्योंकि इससे शरीर में अनावश्यक फैट बन जाते हैं जो एक तरह से बीमारियों का घर बन जाता है।

5. नियमित रूप से शराब या धूम्रपान करने वाले लोगों में भी यह देखा गया है।

Read this also…….CAUSES OF DIABETES, ITS SYMPTOMS, AND REMEDIES मधुमेह होने के कारण क्या क्या है।

कोलेस्ट्रोल में दिखने वाले लक्षण क्या है – Symptoms for cholesterol

Symptoms for cholesterol
Symptoms for cholesterol

1. रक्त का थक्का बन जाना

2. हृदय की कोशिकाओं का संकुचित हो जाना

3. आंखों और त्वचा पर पीले पीले चकत्ते आ जाना

4. हाथ पैर में सिहरन महसूस होना

5. गर्दन के पिछले हिस्से में दर्द

6. लगातार वजन बढ़ना

7. सिर में दर्द

8. सांस फूलना

9.सीने में हमेशा दर्द बना रहना और बेचैनी महसूस होना

10. मोटापा का बढ़ना

Cholesterol Level Chart

Total cholesterol Chart

Desirable Below 200
Borderline 200-239
High Optimal. 240 above LDL-(bad)
cholesterol
Near/above Optimal 100-129
Borderline High 130-159
High 160-189
Very high 190-above HDL-(good)cholestrol
High 60 or above
Very high Below 40

कोलेस्ट्रोल में जोखिम के कारक – Cholesterol Risk Factors

कोलेस्ट्रोल में कई सारी बातों का मुख्य ध्यान देना होता है अन्यथा हम अगर इसे नजरअंदाज करते हैं तो हमारे शरीर में कई अत्यधिक रोगों के पनपने की संभावना होती है, जिसमें सबसे ज्यादा खतरा हमारे दिल को होता है। जहां हम हार्ट स्ट्रोक जैसे खतरों से जुड़ सकते हैं तो हम आपको कोलेस्ट्रॉल में कुछ जोखिम के कारक से अवगत कराने जा रहे हैं।

1. वजन – Weight

Weight
Weight

शरीर का वजन भी हमारे कोलेस्ट्रोल को काफी प्रभावित करता है। इसलिए यह बताया गया है कि यदि आपका वजन 30% से अधिक होता है तो यह आपके लिए एक जोखिम का कारक है।

2. शारीरिक गतिविधि – Physical Activity

Physical Activity
Physical Activity

खुद को कभी भी एक जगह पर बैठने ना दे। हालांकि जितना आप शारीरिक गतिविधि को अंजाम देते हैं उतना ही यह आपके लिए फायदेमंद होता है।

3. आहार – Foods

Foods
Foods

आहार हमारे जीवन का एक ऐसा महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है जो पूरी तरह से हमारे अच्छे और बुरे स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार होता है। इसलिए हमें सही तरह के खाद पदार्थ के सेवन करने की सलाह दी जाती है।

कोलेस्ट्रोल में जटिलताएं – Cholesterol Complications

Cholesterol Complications
Cholesterol Complications

कोलेस्ट्रोल का जरूरत से ज्यादा होना हमारे लिए नुकसानदेह है। आपको एक जरूरी बात बता दे कि उच्च कोलेस्ट्रॉल आपकी धमनियों में निर्माण के लिए पट्टीका कारण बन सकता है। इस स्थिति को एथेरोस्क्लोरोसिस कहते हैं जो एक ऐसी गंभीर स्थिति है जो हमारी धमनियों के माध्यम से हमारे रक्त प्रवाह को सीमित करता है तो आइए जानते हैं कुछ मुख्य जटिलताओं के बारे में:-

  • सीने में दर्द
  • दिल की बीमारी
  • उच्च रक्तचाप
  • आघात गुर्दे की पुरानी बीमारी

उच्च कोलेस्ट्रॉल का निदान कैसे किया जा सकता है – Treatment of High Cholesterol

Treatment of High Cholesterol
Treatment of High Cholesterol

ऐसे बहुत से आहार है जिसके तहत आप अपने कोलेस्ट्रोल का स्तर देख सकते हैं, जिसके माध्यम से आप कोलेस्ट्रोल एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और एचडीएल कोलेस्ट्रोल का आकलन आसानी से कर सकते हैं। आपको डॉक्टर इसके लिए sample लेंगे, जिससे वह लैब में जांच के लिए भेजते हैं। जिस माध्यम से वास्तव में यह पता चलता है कि कोलेस्ट्रोल बढा है या नियंत्रित है। इस परीक्षण के लिए आपको डॉक्टर कम से कम 12 घंटे पहले कुछ भी खाने पीने से बचने के लिए कह सकते हैं। कोलेस्ट्रोल का इलाज यदि ध्यानपूर्वक इसके निदान की ओर देखा जाए तो यह बहुत ही एक आसान तरीका है, जिसे आप नियमित तौर पर सुचारु रुप से अपनाकर कोलेस्ट्रोल से छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए आपको हमारे द्वारा बताए गए कुछ बातों पर गौर करना होगा।

1. ड्राई फ्रूट्स – Dry Fruits

Dry Fruits
Dry Fruits

ड्राई फ्रूट्स जैसे बादाम, अखरोट और पिस्ता इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड काफी मात्रा में मौजूद रहता है। ड्राई फ्रूट हमारे शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में काफी मददगार होता है, क्योंकि ड्राई फ्रूट्स में ऐसे जरूरी फाइबर्स होते हैं जो देर तक व्यक्ति को उनके पेट भरे होने का एहसास दिलाता है। यह पूरी तरह से हमारे शरीर के लिए काफी उपयोगी माना जाता है इसलिए हर रोज 5 से 10 दाने अवश्य खाएं।

2. ओट्स – Oats

Oats

ओट्स आमतौर पर भी इस्तेमाल किया जाने वाला एक ऐसा खाद पदार्थ है, जो हमारी आंख से सभी अनावश्यक एवं चिप चिपे तत्व को साफ करता है और कब्ज के रूप में इसे बाहर निकालता है। वही आप यह जानकर जरूर चौंक जाएंगे कि इस शोध में यह पता चला है कि 3 महीने तक लगातार ओट्स के सेवन से आप कोलेस्ट्रोल के स्तर में 5% तक की कमी देख सकती है।

3. ऑलिव आयल – Olive oil

Olive oil
Olive oil

यह शायद आपने पहली बार सुना होगा कि ऑलिव ऑयल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को काफी रूप से स्थिर रखने में सहायक होता है। ऑलिव ऑयल के पूर्ण रूप से इस्तेमाल से हमारे अंदर हृदय से जुड़े रोगों का खतरा कम हो जाता है। जहां आपको यह बता दे कि यदि आप 6 सप्ताह तक लगातार अपने खाने में ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करते हैं तो यह आपको कोलेस्ट्रोल से पूरी तरह नियंत्रण करने में सहायता प्रदान करता है।

4. नींबू – Lemon

Lemon
Lemon

नींबू के साथ-साथ सभी खट्टे फलों में एक ऐसा घुलनशील फाइबर मौजूद होता है, जो हमारे स्टॉमैक में बैड कोलेस्ट्रॉल को बाहर निकाल को जाने से रोकता है। जहां नींबू की सहायता से हमारे शरीर का बैड कोलेस्ट्रॉल पाचन तंत्र के माध्यम से बाहर निकल जाता है। बता दें कि खट्टे सभी फलों में एंजाइम पाया जाता है, जो हमारे अंदर कोलेस्ट्रॉल को घटाने में काफी रूप से सहायक माना जाता है।

लो कोलेस्ट्रॉल में कैसा भोजन लेना चाहिए – Food should be taken in low cholesterol

Food should be taken in low cholesterol
Food should be taken in low cholesterol

1. मछली – Fish

Fish
Fish

इस बात से आप पूरी तरह अवगत होंगे की मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है, जो हमारे शरीर को काफी फायदा पहुंचाता है। इसलिए हमें पूरी तरह से स्वस्थ रहने के लिए सप्ताह में दो बार स्टीम या ग्रिल्ड मछली खाने की सलाह दी जाती है।

2. अलसी के बीज – Flaxseed seeds

Flaxseed seeds
Flaxseed seeds

अलसी का बीज एक ऐसा उपयुक्त उपचार माना जाता है जिसके द्वारा हम आसानी से अपने कोलेस्ट्रोल पर काबू पा सकते हैं। इसलिए अलसी के बीज के सेवन करने की सलाह दी जाती है। यह आपके लिए काफी बेहतर होगा कि आप साबुत बीज की जगह पर पीसे हुए अलसी के बीज का इस्तेमाल करें।

3. सेब का सिरका – Apple Cider Vinegar

Apple Cider Vinegar
Apple Cider Vinegar

सेब के सिरके के अनेकों फायदे हैं, जो पूर्ण रूप से मानव को प्रभावित करता है। आपको यह जानकारी दे दे कि सेब का सिरका हमारे शरीर में टोटल कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मददगार साबित होता है। जिसके नियमित इस्तेमाल से यह हमारे शरीर को काफी लाभ पहुंचाता है।

4. डार्क चॉकलेट – Dark Chocolate

Dark Chocolate

चॉकलेट भी हमारे लिए फायदेमंद होती है अगर हम सही मात्रा में इसका सेवन करें तब आपको बता दें कि डार्क चॉकलेट में ऐसे एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो हमारे रक्त वाहिकाओं को मजबूत बनाती है। चॉकलेट के सेवन से हमारा कोलेस्ट्रोल भी पूरी तरह सही रहता है।

हाई कोलेस्ट्रॉल में लिए जाने वाले भोजन – High Cholesterol Foods

1. प्याज – Onion

Onion
Onion

प्याज केवल सब्जियों में स्वाद बढ़ाने के लिए ही नहीं बल्कि हमारे कोलेस्ट्रॉल के लिए भी काफी सहायक माना जाता है। आपको बता दें कि एक शोध में यह पता चला है कि प्याज खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को के स्तर को ऊपर उठाने के लिए एक सटीक उपाय माना जाता है।

2. धनिया – Corinder

Corinder
Corinder

धनिया भी एक ऐसा खाद्य पदार्थ माना जाता है जो हमारे खाने के स्वाद को दोगुना बढ़ाने में काफी अहम है, लेकिन इन सबके अलावा धनिया का एक सबसे अच्छा फायदा यह है कि यह हमारे कोलेस्ट्रॉल को कम करने में काफी सहायक है। इसके अलावा धनिया के माध्यम से आप मधुमेह को भी नियंत्रित कर सकते हैं।

3. पालक – Spinach

Spinach
Spinach

पालक जैसे पत्तेदार खाद पदार्थों में अनेकों विटामिन और ऐसे तत्व सम्मिलित होते हैं जिनसे हमारे शरीर को ढेरों लाभ प्राप्त होते हैं। इसके अलावा आपको यह भी बता दें कि पालक हमारी धमनियों में कोलेस्ट्रॉल को बनने नहीं देता है। रोज पालक के सेवन से आप आसानी से कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण पा सकते हैं।

4. सूखे मेवे – Dry fruits

Dry fruits
Dry fruits

सूखा मेवा हमारे शरीर के लिए काफी कितना लाभकारी होता है यह तो आप अपने घर के बड़े बुजुर्गों से ही पूछ सकते सकते हैं। इसके अलावा आपको बता दें कि सूखे मेवे जैसे अखरोट, बादाम और पिस्ता हमारे अंदर हाई कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है। लेकिन आपको सीमित मात्रा में ही हमेशा इन पदार्थों का सेवन करना चाहिए।

रोकथाम कैसे करें कोलेस्ट्रोल की समस्याओं से – How to prevent cholesterol problems

prevent cholesterol problems
prevent cholesterol problems
  • अपना वजन कम यह हमेशा नियंत्रित रखें
  • वसायुक्त खाद्य पदार्थ एवं जंक फूड से बचें
  • हर रोज व्यायाम अवश्य करें
  • शराब और धूम्रपान को छोड़ दे
  • अंडे का पीला हिस्सा ना खाएं
  • दूध से बनी खाद पदार्थ जैसे पनीर और क्रीम का सेवन ना करें
  • बाजार का फ्राइड खाना बंद करें
  • सैचुरेटेड फैट
  • ट्रांस फैट
  • मीट मछली आदि से दूर रहे हैं

Cholesterol-fed medicine

Cholesterol-fed medicine
Cholesterol-fed medicine

1. स्टेटिन्स – Statins

कोलेस्ट्रोल में ली जाने वाली यह एक ऐसी दवा है जो डॉक्टर के द्वारा एलडीएल को कम करने के लिए दिया जाता है। इस दवाई के सेवन से आपके शरीर की अतिरिक्त वसा पर प्रभाव होता है।

Side effect :- इस दवाई के सेवन से आंतों की समस्या तथा टाइप 2 मधुमेह होने की समस्या हो सकती है।

2. नियासिन – Niacin

यह भी एक अन्य दवा है जो एलडीएल कोलेस्ट्रोल को कम करता है और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है यह उपयोग करने पर काफी प्रभावी परिणाम दर्शाता है।

Side effect :- नियासिन के उपयोग से कई बार खुजली, झुनझुनी और सिर दर्द भी हो जाती है।

3. फाइब्रेट्स – Fibrates

यह कोलेस्ट्रोल में ली जाने वाली एक ऐसी दवा है जो ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है। इसके साथ ही अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। आपको यह जानकारी दे देगी यदि आप इसे स्टेटिन्स के साथ लेते हैं तो आप मांसपेशियों से जुड़ी समस्या उत्पन्न हो सकती है।

घरेलू उपचार से कोलेस्ट्रोल को खत्म करे – Home Remedies of Cholesterol

Home Remedies of Cholesterol
Home Remedies of Cholesterol

1. लहसुन – Garlic

Garlic

एक ऐसा घरेलू नुस्खा जो हर तरह के व्यक्ति के स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर डालता है। वैसे ही इसका एक और फायदा है या कोलेस्ट्रॉल में भी काफी असरदार माना जाता है। लहसुन के सेवन से हमारे शरीर में खून में थक्का नहीं बनता है और रक्तचाप संक्रमण से भी हमें यह बचाता है। ताजे लहसुन की दो से चार कलियों की सेवन करने से आपका कोलेस्ट्रोल हमेशा नियंत्रण रहता है।

2. एवोकाडो – Avcado

Avcado

यह हमारे शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ाने के लिए काफी उपयोगी माना जाता है, क्योंकि एवोकाडो में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने वाला बीटा होता है जो हमारे शरीर में भोजन से प्राप्त होने वाले कोलेस्ट्रॉल को सही तरह से नियंत्रित रखता है।

3. आंवला – Amla

Amla

1 घरेलू और प्राकृतिक उपचार के तहत आंवला एक ऐसा प्रभावशाली उपचार माना जाता है जिससे रोजाना एक चम्मच पाउडर या फिर सुबह आंवले को गर्म पानी में सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण प्राप्त होता है। इसे हर रोज सुबह पानी के साथ खाली पेट पीने से फायदा मिलता है।

4. संतरे का जूस – Orange Juice

Orange Juice
Orange Juice

आमतौर पर स्वाभाविक रूप से भी संतरे का जूस फायदेमंद होता है पर आपको बता दें कि कोलेस्ट्रॉल में संतरे का जूस रामबाण के जैसा कार्य करता है। जहां यह बताया गया है कि हर रोज संतरे के जूस के सेवन करने से एच डी एल कोलेस्ट्रॉल में वृद्धि होती है जो कि काफी रूप से प्रभावशाली माना जाता है।

Conclusion:-

मुख्य तौर पर अगर देखा जाए तो कोलेस्ट्रॉल किसी भी उम्र के लोगों की समस्या हो सकती है, क्योंकि जिस तरह लोग आजकल बाहर के खाने जैसे जंक फूड और रेस्टोरेंट के खाने पर निर्भर होते जा रहे हैं उस तरह उन में कोलेस्ट्रोल की समस्या उत्पन्न होना लाजमी है।

ऐसे में सही समय पर इसके बारे में जानना और इसका उपाय करना यह एक सबसे महत्वपूर्ण विषय बन जाता है।इसलिए जितना हो सके खुद को इस तरह की बीमारियों से दूर रखें ।आप जितना स्वस्थ आहार की ओर कदम बढ़ाएंगे उतना ही आप एक अच्छा और स्वस्थ जीवन व्यतीत कर पाएंगे।

Leave a Comment