Health

Tetanus:- Causes, Symptoms, and treatment in Hindi.

जानिए टेटनस के लक्षण उपचार और बचाव Tetanus in Hindi
Written by admin

टिटनेस एक ऐसी अवस्था होती है,जब आपके शारीरिक मांसपेशियों में रुक-रुक कर ऐठन होने लगती है। टिटनस किसी चोट, घाव में संक्रमण होने पर हो सकता है। इसका संक्रमण सारे शरीर में फैल सकता है।

Tetanus:- Causes, Symptoms, and treatment
Tetanus:- Causes, Symptoms, and treatment

Tetanus एक ऐसी अवस्था होती है,जब आपके शारीरिक मांसपेशियों में रुक-रुक कर ऐठन होने लगती है। टिटनस किसी चोट, घाव में संक्रमण होने पर हो सकता है। इसका संक्रमण सारे शरीर में फैल सकता है। वही आपको बता दें कि टिटनेस के कई गंभीर परिणाम हो सकते हैं, लेकिन इस बीमारी के साथ एक अच्छी बात यह है कि यदि चोट लगने के बाद टीकाकरण हो जाए तो यह ठीक हो सकता है।

Read this also…..FITNESS DIET:- TO STAY FIT AND HEALTHY IN OUR DAILY LIFE IN HINDI.

Causes of Tetanus

 Causes of Tetanus
Causes of Tetanus

यह संक्रमण टिटेनोस्पासमिन से होता है। यह एक जानलेवा न्यूरोटोक्सीन होता है, जो कि एक बैक्टीरिया से निकलता है। यह बैक्टीरिया धूल, मिट्टी, लौह चूर्ण, कीचड़, आदि में पाए जाते हैं। वही जब शरीर का घाव किसी तरह से इस बैक्टीरिया के संपर्क में आता है तो यह संक्रमण होता है। यह देखा गया है कि संक्रमण के बढ़ने पर पहले जबड़े की पेशियों में ऐठन आती है। इसके बाद कोई भी चीज निकलने में काफी तकलीफ होने लगती है और फिर देखते देखते यह संक्रमण पूरे शरीर की पेशियों में जकड़न और ऐठन पैदा कर देता है।

वही यह माना जाता है कि जिन लोगों को बचपन में टिटनेस का टीका नहीं लगाया जाता है, उन्हें संक्रमण होने का खतरा काफी अधिक होता है। टिटनेस भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व भर में होने वाली समस्या है, लेकिन नमी के वातावरण वाली जगहो में जहां मिट्टी में खाद्य अधिक हो। उसमें tetanus का जोखिम अधिक होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जिस मिट्टी में खाद डाली जाती है उसमें घोड़े, भेड़, बकरी, कुत्ते, सूअर,आदि पशुओं का संपर्क होता है और इन पशुओं के हाथों में से बैक्टेरिया का बहुतायात होता है। इस वजह से इस बीमारी के होने का खतरा और भी बढ़ जाता है।

Read this also…THE TOP 20 BEST AND WORST DIET FOOD OF 2020

Symptoms of Tetanus

Symptoms of Tetanus
Symptoms of Tetanus
  1. पेट की मांसपेशियों में अकड़न
  2. इसके अलावा कुछ देर तक पूरे शरीर में दर्द का होना
  3. निगलने में कठिनाई
  4. जबड़े में ऐंठन और अकड़न
  5. बुखार
  6. बीपी बढ़ जाना
  7. पसीना आना
  8. हृदय की धड़कन बढ़ना

Read this also….11 SIGNS IT’S MORE SERIOUS THAN THE COMMON COLD

Treatment of tetanus

टिटनेस से बचने के उपाय क्या क्या है:-
  1. टिटनेस से बचने का सबसे पहला इलाज है, डीपीटी का टीका जो टिटनेस से इंसान का बचाव करता है।
  2. बच्चों को टिटनेस का टीका जरूर लगवाएं। जन्म के शुरुआती 2 वर्षों से लेकर 10 वर्षों तक चार बार प्राथमिक टीकाकरण किया जाता है।
  3. अपने घाव को हमेशा साफ रखें
  4. किसी भी प्रकार की चोट को गोबर या धूल से बचाएं
  5. अगर चोट या खरोच लौह या किसी जंग लगी चीज से लगी हो तो तुरंत टिटनेस का टीका जरूर लगवाएं।
  6. कोई भी ऐसा घाव जिससे त्वचा फट गई हो उसे तुरंत पानी और साबुन से साफ किया जाना चाहिए।
  7. घाव को कभी खुला ना छोड़े। खुले घाव के संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है।
  8. यदि घाव से खून बह रहा है तो उस पर सूती और सूखा कपड़ा बांधे।
  9. रक्त को रोकने के लिए घाव के ऊपर दबाव डाले, जिससे खून आना बंद हो जाए।
  10. घायल व्यक्ति को तुरंत टिटनेस का टीका लगवाना चाहिए।

Read this also….8 STEPS TO FINDING THE PERFECT WINTER CARE IN HINDI

Some other Causes of tetanus

  • घाव पर किसी अन्य संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया का संपर्क
  • चोट के आसपास सूजन
  • त्वचा के घायल उत्तक
  • कुछ चुभने या घुसने से लगने वाली चोट
  • ऑपरेशन के घाव
  • बंदूक की गोली के घाव
  • जलने से होने वाले घाव

1 Comment

Leave a Comment