Health

Typhoid Fever: Causes, Symptoms, and Home Treatment in Hindi.

टाइफाइड बुखार के कारण, लक्षण, इलाज एवं घरेलू टिप्स (Causes, Symptoms, and home remedies for typhoid fever).
Written by admin

टायफाइड एक तरह का बुखार है, जिसे मियादी बुखार के रूप में भी जाना जाता है। यह एक तरह का संक्रामक बुखार होता है इसलिए ये एक से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैलता है। इतना ही नहीं, यह बच्चों से लेकर बड़ों तक किसी को भी अपनी चपेट में ले सकता है।

Causes, Symptoms, and home remedies for typhoid fever
Causes, Symptoms, and home remedies for typhoid fever

टाइफाइड बुखार के कारण, लक्षण, इलाज एवं घरेलू टिप्स -Causes, Symptoms, and Home Treatment for typhoid fever

Typhoid Fever :- Typhoid एक तरह का fever है, जिसे मियादी बुखार के रूप में भी जाना जाता है। यह एक तरह का संक्रामक बुखार होता है इसलिए ये एक से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैलता है। इतना ही नहीं, यह बच्चों से लेकर बड़ों तक किसी को भी अपनी चपेट में ले सकता है। हालांकि Typhoid Fever को Antibiotic medicines के जरिए ठीक किया जा सकता है, लेकिन अगर सावधानी न बरती जाए तो इससे व्यक्ति की परेशानी बढ़ सकती है।

Read this also……महिलाओं में कमजोरी के कारण, लक्षण, एवं उपाय – WOMEN WEAKNESS IN HINDI.

टाइफाइड को दूषित पानी या भोजन वाले bacteria को पीने या खाने से अनुबंधित किया जाता है। High Fever वाले लोग मल के माध्यम से आसपास के पानी की आपूर्ति को संभावित रूप से दूषित कर सकते हैं, क्योंकि इसमें Bacteria की उच्च एकाग्रता होती है। Bacteria पानी या सूखे सीवेज में हफ्तों तक जीवित रह सकते हैं। टाइफाइड के लिए ऊष्मायन अवधि लगभग 1-2 सप्ताह है और बीमारी लगभग 3-4 सप्ताह तक रहती है।

टाइफाइड बुखार के कारण – Cause of typhoid Fever

 Cause of typhoid Fever
Cause of typhoid Fever

यदि व्यक्ति मल त्यागने है पेशाब करने के बाद यदि अपने हाथों को नहीं होता है और उसके बाद भोजन को उसी हाथों से छूने के कारण Typhoid की बीमारी होती है इसके अलावा कुछ अन्य कारण भी है जिस वजह से हमें Typhoid की बीमारी होती है।

1. यदि आप किसी व्यक्ति से संपर्क में आ रहे हैं जो इस बीमारी से संक्रमित हैं या हाल ही में वो टाइफाइड बुखारसे संक्रमित हुआ है तो सावधान रहें ऐसी स्थिति में बीमारी संपर्क में आने के बाद आपको भी हो सकती है।

2. यदि आप उस जगह पर काम करते हैं या यात्रा करते हैं जहां टाइफाइड बुखार स्थानिक होता है तो इस तरह से भी आप बीमारी के संपर्क में आ सकते हैं।

3. यदि आप सीवेज द्वारा दूषित पानी पी रहे हैं, जिसमें सालमोनेला टाइफी हो तो टाइफाइड बुखार आपको भी हो सकती हैं।

4. टाइफाइड बुखार सालमोनेला नामक विषाक्त bacteria के कारण होता है। यह एक गंभीर संक्रमण है।

5. औद्योगिक देशों में अक्सर ये होता है कि अधिकांश लोग यात्रा करते समय Typhoid bacteria उठाते हैं और इसे मौखिक मार्ग के माध्यम से दूसरे तक फैलाते हैं।

Read this also…..HEART-HEALTHY DIET PLAN IN HINDI:- SOME FOODS THAT PREVENT HEART DISEASE.

टाइफाइड बुखार के लक्षण – Symptoms of typhoid fever

 Symptoms of typhoid fever
Symptoms of typhoid fever

1. संक्रमण बढ़ने के साथ-साथ व्यक्ति खुद को बीमार महसूस करने लगता है। जिससे व्यक्ति के शरीर पर रैश देखने को मिलते हैं। या शरीर पर छोटे गुलाबी स्पॉट हो जाते हैं।

2. पेट में दर्द महसूस होना, भूख ना लगना यह सभी इसके कुछ आम लक्षणों में से एक है।

3. टाइफाइड बुखार होने पर व्यक्ति को 102 डिग्री सेल्सियस से ऊपर बुखार रहता है।

4. टाइफाइड बुखार में लिवर में इन्फेक्शन होने के कारण शरीर के हर अंग में संक्रमण हो सकता है।

5. पेट में दर्द, सिर दर्द के अलावा भूख कम लगना भी इसके लक्षणों में पाया जाता है। इसके अलावा टाइफाइड बुखार में व्यक्ति को उल्टी और कमजोरी भी आती रहती हैं।

Read this also…….CAUSES OF DIABETES, ITS SYMPTOMS, AND REMEDIES मधुमेह होने के कारण क्या क्या है।

टाइफाइड के बुखार में किस तरह का भोजन ले -Food to take in typhoid fever

type of food to take in typhoid fever
  1. अधिक मात्रा में रस, सूप, तरल आहार और मिनरल वाटर लें।
  2. वे आहार लें जिनमें उच्च जैविक मान वाले प्रोटीन हों, जैसे दूध, अंडे, मीट पेस्ट, मछली, पोल्ट्री उत्पाद।
  3. अधिक शक्कर वाले रिफाइंड आहार जैसे कि शहद, जैम, शक्कर की गोलियाँ, जेली, ग्रास जेली, समुद्री वनस्पति आहार।
  4. आँतों की हलचल कम करने के लिए कम-रेशे वाले आहार, पके हुए फल, आलू, आदि लें।
  5. पतले रेशे युक्त या घुलनशील रेशे युक्त सब्जियाँ: पालक, पत्तागोभी, फूलगोभी, गाजर आदि।

Read this also…..सर्दियों मे खाए जाने वाले फल- WINTER FRUITS TO EAT.

टाइफाइड बुखार का इलाज – Treatment of typhoid Fever

 Treatment of typhoid Fever
Treatment of typhoid Fever
  • Typhoid के उपचार का उद्देश्य संक्रमण के कारण होने वाले fever को दूर करना, संक्रमण को नियंत्रित करना और रोगी के शरीर में उचित द्रव संतुलन को बनाए रखना है।
  • इस प्रकार typhoid fever को दूर करने के लिए और संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए रोगी को antibiotic medicines, जैसे एम्पीसिलीन, क्लोरैम्फेनिकॉल, ट्राइमेथोप्रिम-सल्फामेथोक्साज़ोल, एमोक्सिसिलिन और सिप्लाक्लोक्सासिन जैसी दवाएँ दी जाती हैं।
  • यदि रोगी ओरल रिहाइड्रेशन थेरेपी की तुलना में आहार की खुराक लेने में सक्षम है, तो दस्त के कारण पानी के कमी के बाद द्रव संतुलन बनाए रखने के लिए सही है।
  • अगर उल्टी ज्यादा होने के कारण मरीज मुंह के जरिए किसी चीज का सेवन नहीं कर पाता है, तो संक्रमण को दूर करने के लिए और मरीज को हाइड्रेट रखने के लिए IV आधारित तरल पदार्थ और दवाइयां इंजेक्ट की जाती हैं।
  • जो रोगी लंबे समय से बीमार हो उन्हें antibiotic medicines के साथ इलाज किया जाता है और दुर्लभ मामलों में पित्ताशय की थैली को सर्जरी के माध्यम से हटा दिया जाता है।

Read this also…..रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के तरीके (METHODS TO INCREASE IMMUNITY POWER).

टाइफाइड बुखार से बचाव – Protection from typhoid Fever

 Protection from typhoid Fever
Protection from typhoid Fever

Typhoid fever से बचाव के लिए सबसे पहले हमें Typhoid का टीका लगवाने का सुझाव दिया जाता है इसके अलावा आप कुछ अन्य तरीके अपनाकर भी Typhoid fever से बचाव कर सकते हैं:-

Read this also…..WEIGHT LOSS DIET PLAN IN HINDI – वजन कम करने के आसान उपाय

1. हाथ धोना – Hand wash

 Hand wash
Hand wash

साबुन एवं गर्म पानी से बार बार Hand wash से typhoid fever पर संक्रमण नहीं होता है। इसलिए खाना बनाने व खाने से पहले और टॉयलेट के बाद अपने हाथों को अच्छे से धो लें। इसके अलावा आपको यह भी जानकारी दी कि अपने साथ अल्कोहल वाले सैनिटाइजर (Sanitizer) रखें। जहां पर पानी उपलब्ध ना हो वहां उसका उपयोग करें।

Read this also……SUPERFOODS FOR HEALTH:- 25 FOODS TO INCLUDE IN OUR DIET PLAN

2. कच्चे पदार्थ को ना खाएं – Do not eat raw material

Do not eat raw
Do not eat raw

इसलिए बताया जाता है, क्योंकि कच्चे फलों एवं सब्जियों को सुरक्षित पानी से धोया जा सकता है। खासकर ऐसी सब्जियों को बिल्कुल भी ना खाएं जिनका चिलकाना उतारा जा सके। जैसे सलाद।इस बीमारी से बचने और पूरी तरह से सुरक्षित रहने के लिए आपको इस तरह के पदार्थों के सेवन को बंद करना होगा।

Read this also……TYPHOID FEVER: CAUSES, SYMPTOMS, AND HOME TREATMENT IN HINDI.

3. गर्म आहार खाएं – Eat hot foods

Eat hot foods
Eat hot foods

ऐसी स्थिति में आपके लिए गर्म और ताजा पका भोजन सुरक्षित माना जाता है। वैसे तो किसी भी बड़े से बड़े होटल में भी अच्छा और शुद्ध खाना मिलने की गारंटी नहीं होती, लेकिन फिर भी सड़क किनारे मिलने वाले भोजन से बचना चाहिए। क्योंकि इनका खाना दूषित होने की संभावना अधिक होती हैं, जो हमें बीमार करता है।

Read this also……HOW TO GAIN WEIGHT FAST BY HOME REMEDIES AND AYURVEDIC TREATMENT

4. खुद से खाना ना बनाएं – Don’t cook by yourself

Don't cook by yourself
Don’t cook by yourself

जब तक आप typhoid fever से संक्रमित हैं तब तक आप किसी अन्य व्यक्ति के लिए खाना ना बनाएं, क्योंकि ऐसी स्थिति में typhoid fever दूसरों तक भी फैलने की संभावना अधिक होती है।इसलिए जब तक टेस्ट के रिजल्ट ना आ जाए और अब पूरी तरह से ठीक ना हो जाए तब तक आप खाना बनाने का प्रयास ना करें।

Read this also……HOW TO CHECK PREGNANCY AT HOME IN HINDI. प्रेगनेंसी चेक करने के घरेलू तरीके

Typhoid fever video

घरेलू उपचार के माध्यम से टाइफाइड बुखार को कैसे ठीक किया जा सकता है – Cured through home remedies

 cured through home remedies
cured through home remedies

1. लहसुन की कली 5 से 10 ग्राम तिल के तेल में या घी में तलकर सेंधा नमक डालकर खाने से भी typhoid ठीक हो सकता है।

2. Typhoid fever को ठीक करने के लिए मरीज को पुदीना और अदरक का काढ़ा पीना चाहिए।

3. Typhoid fever में फल खाने से शारीरिक कमजोरी भी ठीक होती है और Typhoid fever भी खत्म हो जाती है।

4. तुलसी और सूरजमुखी के पत्तों का रस पीने से भी Typhoid fever जल्दी से ठीक हो जाता है।

5. आप Typhoid fever को ठीक करने के लिए लस्सी में थोड़ा-सा धनिया का रस मिलाकर भी पी सकते हैं।

Leave a Comment