Health

What is a phobia:- 10 Things Most People Don’t Know About Phobia

What is a phobia? What is the type of it and what are its symptoms and treatment?
Written by admin

लोगों को किसी न किसी चीजों से डर लगता है। जिसे हम phobia कहते हैं।आइए जानते हैं phobia के types कितने होते हैं और इसके causes क्या होते हैं:-

What is a phobia? What is the type of it and what are its symptoms and treatment

फोबिया क्या है – What is a phobia?

हम यह देख सकते हैं कि ज्यादातर लोगों को किसी न किसी चीजों से डर लगता है। जब यह डर हद से ज्यादा बढ़ जाए तो यह गंभीर Mental disorders रूप ले सकता है। जिसे हम phobia कहते हैं। यदि आपको किसी भी चीज से phobia है तो आप उस चीज का सामना करने में बहुत डरते हैं। यह डर किसी खास जगह, स्थिति या चीज से हो सकता है। कई बार यह देखा जाता है कि phobia effect से आपको बहुत ज्यादा तकलीफ का सामना भी करना पड़ सकता है तो आइए जानते हैं phobia के types कितने होते हैं और इसके cause क्या-क्या होते हैं:-

Read this also…….महिलाओं में कमजोरी के कारण, लक्षण, एवं उपाय – WOMEN WEAKNESS IN HINDI.

Types of phobia :-

फोबिया के प्रकार – Types of phobia

Read this also……..HEART-HEALTHY DIET PLAN IN HINDI:- SOME FOODS THAT PREVENT HEART DISEASE.

1. एगोरोफोबिया -Agoraphobia

इस phobia के माध्यम से लोगों को भीड़ भाड़ वाली जगह पर जाने में बहुत डर लगता है। जहां वह केवल घर में बंद रहने की सोचते हैं। इसके अलावा आपको बता दें कि इस phobia के patient को ऐसा भी कभी-कभी प्रतीत होने लगता है कि भीड़ में कोई उन पर हमला कर देगा जिससे वह बच नहीं पाएंगे।

Read this also…….CAUSES OF DIABETES, ITS SYMPTOMS, AND REMEDIES मधुमेह होने के कारण क्या क्या है।

2. सोशल फोबिया – Social phobia

यदि हम Social phobia के patient की बात करें तो इसके patients को लोगों से मिलने समूह में रहने उनके बीच में अपनी बात रखने से भी डर लगता है। वही बता दे कि डर कई बार इतना ज्यादा होता है कि patients खुद को एक कमरे तक सीमित कर लेता है। इसमें patient को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

3. ग्लौसोफोबिया -Glossophobia

इस बीमारी के patients में अक्सर यह देखा जाता है कि patient लोगों के सामने बोलने से घबराता है। इससे परेशान लोग जब भीड़ के सामने पहुंचते हैं तो उनकी स्थिति को कई शारीरिक लक्षणों से भी पहचाना जा सकता है। बता दें कि Glossophobia जैसी बीमारी को दवा और थेरेपी के माध्यम से भी ठीक किया जा सकता है।

4. स्क्रोफोबिया – Scrophobia

Scrophobia में इंसान को अक्सर height से बहुत डर लगता है। Scrophobia के patient को पहाड़ों फूल और बहुमंजिला इमारतों में जाने से डर लगता है। जहां आप यह देख सकते हैं कि phobia के लक्षणों में चक्कर आना, पसीना आना और ऐसा महसूस होना कि वह बाहर कब निकलेंगे या बेहोश हो जाएंगे…यह सभी शामिल है।

फोबिया के कारण क्या क्या है – What are the cause of phobia

  • परिवार के किसी सदस्य द्वारा किसी भय व चीज से सामना भी अन्य सदस्यों के लिए phobia का कारण बन सकता है।
  • phobia माता पिता से भी लग जाता है। यह भय की बात सुनकर भी किसी बच्चे मे यह विकसित हो सकता है।
  • यह आमतौर पर बच्चों में 4 से 8 साल की उम्र के बीच होता है। कुछ मामलों में यह पहले कभी जीवन में किसी घटना के कारण भी हो सकता है।
  • मस्तिष्क में चोट लगने के कारण भी व्यक्ति को phobia हो जाता है, जो आमतौर पर बचपन किशोरावस्था और वयस्कता के दौरान होती है।
  • इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति नदी में डूब जाए तो उसे डूबता देख दूसरे व्यक्ति को जीवन भर के लिए फोबिया हो सकता है।

फोबिया के लक्षण क्या-क्या होते हैं – What are the symptoms of phobia

What are the symptoms of phobia

1. दिल की धड़कन का बहुत तेज हो जाना

2. सांस लेने में समस्या होना

3. मुंह सूखना

4. पेट में मरोड़ा उठना

5. हल्का पन महसूस होना

6. ब्लड प्रेशर बढ़ जाना

7. हाथ पैरों में कपकपी होना

8. सिर में दर्द या घबराहट होना

9. चक्कर आना

10. हल्कापन महसूस होना

11. बहुत ज्यादा पसीना आना

12. तेज ना बोल पाना या बोल ही ना पाना

13. डर महसूस होने के कारण मस्तिष्क द्वारा सामान्य रूप का कार्य करने की परेशानी

14. पेट गड़बड़ी होना

15. ब्लड प्रेशर बढ़ना

16. मुंह सूखना

फोबिया को दूर करने के लिए कुछ प्रभावी इलाज -Some effective remedies to remove phobia

phobia anxiety disorder

Phobia कोई गंभीर बीमारी नहीं बल्कि सिर्फ एक समस्या है जिसे आसानी से ठीक किया जा सकता है। चूंकि यह मस्तिष्क से जुड़ी हुई है इसलिए phobia के इलाज के लिए cognitive behaviour therapy और medicines का सहारा लिया जाता है।

कॉग्निटिव बिहेवियर थेरेपी – (CBT): Cognitive behaviour therapy

Cognitive behaviour therapy से डर को पहचानने की कोशिश की जाती है और व्यक्ति के नकारात्मक विचारों और और विश्वासों और नकारात्मक प्रतिक्रियाओं को दूर करने की कोशिश की जाती है। यह उपचार थोड़ा कठिन जरूर होता है लेकिन व्यक्ति के डर और चिंता को पूरी तरह से दूर कर देता है।

दवाएं:

फोबिया के इलाज के लिए पीड़ित व्यक्ति को एंटीडिप्रेसेंट्स और एंटी एनेक्जाइटी दवाएं दी जाती हैं जो व्यक्ति को शांत रखने में मदद करती है और डर के प्रति इमोशनल और फिजिकल रिएक्शन को दूर करती है।

Leave a Comment