Health

Work of prostate in our body, a problem in prostate and their solution

Work of prostate in our body, a problem in prostate and their solution
Written by admin

प्रोस्टेट एक ऐसी ग्रंथि है, जो पुरुष प्रजनन प्रणाली का एक हिस्सा है, जो मूत्राशय को बाहर निकलता है। यदि आपका प्रोस्टेट बहुत बड़ा हो जाता है तो इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

Work of prostate in our body, a problem in prostate and their solution

प्रोस्टेट एक ऐसी ग्रंथि है, जो पुरुष प्रजनन प्रणाली का एक हिस्सा है, जो मूत्राशय को बाहर निकलता है। यदि आपका प्रोस्टेट बहुत बड़ा हो जाता है तो इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

लेकिन आपको यह जानना बेहद जरूरी है कि प्रोस्टेट की समस्या होने का मतलब हमेशा कैंसर नहीं होता है। सभी प्रोस्टेट कैंसर जानलेवा नहीं होते हैं। कुछ उपचार के दुष्प्रभाव से भी हो सकते हैं। यदि आप उच्च वसा वाले भोजन का सेवन करते हैं तो यह आपके जोखिमों को बढ़ा सकता है।प्रोस्टेट कैंसर के लिए उपचार इस बात पर भी निर्भर करता है कि कैंसर प्रोस्टेट के हिस्से में या शरीर के अन्य हिस्सों में फैला है या नहीं……वही आपकी उम्र और संपूर्ण स्वास्थ्य पर भी निर्भर करता है। उसका कार्य एक तरल पदार्थ का स्त्राव करना है, जो वीर्य की मात्रा में योगदान करता है।प्रोस्टेट मलाशय के ठीक सामने होता है, जो मूत्र को शरीर से बाहर निकाल देता है।

बड़े हुए प्रोस्टेट के कुछ कारण है, जो कि जोखिम भरा हो सकता है:-

  1. आयु

2.मधुमेह

3.मोटापा

4.बीपीएच का पारिवारिक इतिहास

5.दिल की बीमारी

प्रोस्टेट के लक्षण कुछ इस प्रकार हैं:-

प्रोस्टेट के लक्षण कुछ इस प्रकार हैं:-

1. पेशाब करने की अधिक तत्काल आवश्यकता

2. मूत्र में प्रवाह की कमी

3.पेशाब करने के लिए बार-बार रात में जागना

4. मलाशय में दबाव या तेज दर्द

5. प्रोस्टेट में यह लक्षण भी देखा गया है कि पेशाब के साथ जलन होने लगता है।

6. ठंड लगना, बुखार आना, पीठ में दर्द, निचले पेट में दर्द, अंडकोष की थैली में दर्द, आदि समस्याएं भी होती हैं।

7. बार बार पेशाब आना खासकर रात में

8. मूत्राशय को खाली करने के लिए धक्का या तनाव

9. पेशाब करने के लिए तनाव होना और लगातार पेशाब शुरू होने में कठिनाई

10. पीठ के निचले हिस्से कूल्हो श्रेणी या गुदा क्षेत्र में लगातार कठोरता के साथ तेज दर्द होना

11. इसके लक्षण में इस बात का ध्यान रखना बहुत ही जरूरी होता है कि क्या आपकी आयु 50 वर्ष से अधिक है या आपके पिता या भाई को प्रोस्टेट हुआ है। जिससे आपको मदद मिल सकती है।

प्रोस्टेट के लिए कुछ प्राकृतिक उपचार

प्रोस्टेट के लिए कुछ प्राकृतिक उपचार
  1. हर दिन कम से कम पांच फलों और सब्जियों का सेवन करें। ज्यादा गहरे फल और सब्जियां खाएं।
  2. चीनी- मीठे पेय जैसे सोडा और कई फलों के रस से बचें। इस गुण में आप मिठाई खा सकते हैं।
  3. खाद लेबल पढ़कर और तुलना करके सोडियम की खाद पदार्थ का चयन करें। इसके अलावा यह ध्यान रखें कि डिब्बाबंद और जमे हुए हाथ पदार्थ के उपयोग को भी सीमित करें।
  4. गौ मांस,सूअर का मांस, मीट इत्यादि की खपत को सीमित करें।
  5. ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ जिनमें अधिकांश मछली और कुछ नट्स और बीज भी शामिल है। जैसे कि आप थोड़ा और चिया का सेवन कर सकते हैं।

कुछ अन्य प्रभावशाली उपचार

  1. चुभने वाला बिछुआ

बिछवा में पाइजियम और पामेटो के सामान एंटीऑक्सीडेंट्स और विरोधी भड़काऊ योगिक पाए जाते हैं। वही आपको बता दें कि बिछुआ जड़ को कभी-कभी आरि पामेटो के साथ संयोजन में उपयोग किया जाता है।

2. लाइकोपिन

यह ऐसा वर्णक है, जो ज्यादातर कोई फल और सब्जियों में पाया जाता है। टमाटर ज्यादातर लोगों के लिए उपलब्ध निकोटीन का सबसे अच्छा स्रोत है, लेकिन कुछ अन्य फलों और सब्जियों में इस एंटी ऑक्सीडेंट के निम्न स्तर होते हैं। पपीता, गाजर, अमरुद, खूबानी, लाल पत्ता गोभी, गुलाबी मौसमी, तरबूज,अमरूद में लाइकोपीन पाया जाता है।

3. जिंक

जिंक का आहार सेवन करने पर बड़े से बड़े हुए प्रोस्टेट के साथ जुड़े हुए मूत्र लक्षणों का भी एक करने में मदद मिल सकती है। आपको बता दें कि मुर्गी, समुद्री भोजन और कई प्रकार के बीच और नट्स जैसे तिल और कद्दू में जिंक अधिक मात्रा में पाया जाता है।

4. ग्रीन टी

ग्रीन टी एंटी ऑक्सीडेंट का उच्च श्रोत माना जाता है। यह आपको ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ग्रीन टी में कैफीन होता है। कैफिन मूत्राशय को उत्तेजित कर सकता है और अचानक पेशाब करने की आग्रह कर सकता है। संभावना है कि इससे आपका बीपीएस लक्षण बिगड़ सकता है।

Leave a Comment