Entertainment & Reviews Movie Review

Chhichhore Movie Review: सुशांत सिंह राजपूत और श्रद्धा कपूर ने मचाया धमाल

Chhichhore Movie Review:
Written by admin

श्रद्धा कपूर और सुशांत सिंह राजपूत स्टारर फिल्म सभी सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। जिसे दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया जा रहा है।इस बात का एकमात्र सबूत है बॉक्स ऑफिस कलेक्शन….

Chhichhore Movie Review: सुशांत सिंह राजपूत और श्रद्धा कपूर ने मचाया धमाल

श्रद्धा कपूर और सुशांत सिंह राजपूत स्टारर फिल्म सभी सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। जिसे दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया जा रहा है। इस बात का एकमात्र सबूत है बॉक्स ऑफिस कलेक्शन…. जहां अभी तक फिल्म ने 3 दिनों में 35 करोड़ की कमाई कर ली है। ओपनिंग डे शुक्रवार को फिल्म ने लगभग सात करोड़ की कमाई की और शनिवार को वृद्धि के साथ 11.75 करोड़ की कमाई की है। वही आगे के लिए यह अनुमान लगाया जा रहा है कि फिल्म वीकेंड पर भी शानदार कमाई कर सकती है और इस सप्ताह फिल्म को काफी फायदा भी मिल सकता है।

वही आपको बता दें कि परफॉर्मेंस के मामले में फिल्म रिच है। सुशांत सिंह राजपूत ने नौजवान के साथ अधेड़ अनिरुद्ध को बखूबी जिया है। श्रद्धा कपूर भी यंग माया के रूप में खूब जमती नजर आई है। फिल्म में वह बला की खूबसूरत भी लग रही है। इस फिल्म में सुशांत और श्रद्धा की केमिस्ट्री में मासूमियत झलकती है। इसके अलावा सेकसा के रूप में वरुण शर्मा का किरदार भी बहुत लाउड है।

मनोरंजन के साथ-साथ संदेश भी देती है यह फिल्म

मनोरंजन के साथ-साथ संदेश भी देती है यह फिल्म

बताया जा रहा है कि फिल्म छिछोरी मनोरंजन से भरपूर है, लेकिन मनोरंजन के साथ-साथ यह फिल्म बढ़िया संदेश भी देती नजर आती है। फिल्म में 90 के दशक में माहौल को बहुत ही खूबसूरती से दर्शाया गया है। रोमांस कॉमेडी सिनेमा का मुख्य उद्देश मनोरंजन को पड़ोसना होता है। मगर जो फिल्म मनोरंजन के साथ एक मैसेज दे उसे तो सोने पर सुहागा कहा जाता है। इस फिल्म में कई पड़ते हैं, इन पर हर कोई अपने आप को किसी न किसी लेयर के साथ कनेक्ट करेगा। फिल्म निर्देशक नितेश तिवारी एक सुलझे हुए संवेदनशील निर्देशक के रूप में जाने जाते हैं, जिन्होंने 90 के दशक के माहौल को बहुत ही खूबसूरती से पर्दे पर दर्शाया है।

कहानी

अनिरुद्ध (सुशांत सिंह राजपूत) का बेटा राघव (मोहम्मद समद) पढ़ाई लिखाई में बहुत ही होनहार और मेहनती रहता है और एंट्रेंस एग्जाम के सेलेक्ट होने में के प्रेशर से गुजर रहा है। माया (श्रद्धा कपूर) से डाइवोर्स लेने के बाद अनिरुद्ध सिंगल पैरंट है। वही राघव का सिलेक्शन नहीं हो पाता है तो वह इस सदमे को बर्दाश्त नहीं कर पाता है और दोस्त की बिल्डिंग से कूदकर जान देने की कोशिश करता है। खुदकुशी की कोशिश में उसके दिल दिमाग पर गहरी चोट लगती है। अनिरुद्ध जब बेटे को हाथों से जाता हुआ देखता है तो बेटे को बचाने के लिए अपने हॉस्टल के दिनों के दौर में ले जाता है।

हॉस्टल में माया के प्यार के साथ उसे सेक्सा( वरुण शर्मा), केरेक (ताहिर राज भसीन), (एसिड *नवीन पॉलिशेट्टी), (मम्मी *तुषार पांडे) जैसी जिगरी दोस्तों की दोस्ती मिलती है। अनिरुद्ध अपने हॉस्टल के इन सभी जिगरी यारो को इकट्ठा करता है। अनिरुद्ध राघव को बताता है कि कैसे एक हॉस्टल में लूजर्स के नाम से कुख्यात उन लोगों ने खुद को लूजर्स के टाइप से मुक्त करने की कोशिश की थी। मगर अनिरुद्ध के अतीत की कहानी से राघव की हालत और क्रिटिकल हो जाती है।

छिछोरे एक कैंपस ड्रामा है। जिसे दो भागों में विभाजित किया गया है- पहला भाग 90 के दशक में सेट किया गया है, जबकि दूसरा वर्तमान समय में सेट किया गया है। फिल्म सात कॉलेज मित्रों के बारे में है, जो अब अपने संबंधित जीवन में व्यस्त हैं और अपने अच्छे पुराने कॉलेज के दिनों को फिर से जीने के लिए पुनर्मिलन करते हैं। फिल्म रेट्रोस्पेक्शन में जाती है और हम इन दोस्तों को उनके इंजीनियरिंग कॉलेज में सब कुछ करते हुए भी देखते हैं।

छिछोरे कुछ आउट-ऑफ-द-बॉक्स और कुछ क्लिच पंचलाइन से भरे हुए हैं जो आपको आपके कॉलेज के दिनों और आपके ‘केमाइन’ दोस्तों की याद दिलाएंगे। हालांकि फिल्म को आलोचकों से मिश्रित समीक्षा मिली, दर्शकों को यह फिल्म पसंद आई है जैसा कि बॉक्स ऑफिस पर रिंगिंग कैश रजिस्टरों द्वारा सुझाया गया है। फिल्म ट्रेंड एनालिस्ट्स इसे माउथ पब्लिसिटी और फिल्म से जुड़ी नॉस्टेल्जिया फैक्टर का श्रेय देते हैं।

Leave a Comment