Life & Relationship Parenting & ChildCare

Effectively Parenting Tips for Your Child in Hindi

Effectively Parenting Tips
Written by admin

बच्चों की देखभाल अगर सही तरह से की जाए तो वह कल को होकर वह आप की छवि को दर्शाते हैं, क्योंकि एक बच्चा बचपन में जो कुछ भी सीखता है वह अपने माता-पिता से ही सीखता है। वही आपको यह भी बता दें कि बच्चों के देखभाल सही तरह से करना यह सबसे कठिन कार्य माना जाता है। जहां आज हम आपको कुछ ऐसे Effectively Parenting Tips बताने जा रहे हैं जिस माध्यम से आप यह जान पाएंगे कि अपने बच्चों की सही देखभाल किस तरह से कर सकते हैं।

  1. अपने बच्चों के लिए सही समय बनाएं
  2. अपने बच्चों को अपना प्यार दिखाएं
  3. खास देखभाल करें
  4. सोच और उनके विचार को बढ़ावा दे
  5. बच्चों की बातों को ध्यान पूर्वक सुने
  6. बच्चों की परेशानी को हल करने का प्रयास करें
  7. हमेशा बच्चों की खुशी को ध्यान में रखें
  8. उनकी गलतियों पर उन्हें समझाएं
  9. बच्चों को माफ करना सिखाए
  10. हमेशा दूसरे की मदद करना सिखाए

Read this also….PARENTING TIPS:- 10 GOOD PARENTING GUIDE FOR CHILDREN IN HINDI.

अपने बच्चों के लिए सही समय बनाएं

Effectively Parenting Tips for Your Child

समय एक रिश्ते के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि समय के साथ बिताए लम्हे अक्सर एक सही यादे लेकर आती है लेकिन कई बार समय के अभाव के कारण कई रिश्ते भी बिखर जाते हैं। ठीक उसी तरह अपने बच्चों की सही देखभाल के लिए यह बहुत जरूरी है कि आप उनके लिए पर्याप्त रूप से समय निकालें।

यदि आप ऑफिस में काम करते हैं तो पूर्ण रूप से यह आपकी जिम्मेदारी होती है कि सुबह कुछ समय पहले उठे ताकि आप बच्चों के साथ नाश्ता कर सके, क्योंकि इससे आप अपने बच्चे के काफी नजदीक महसूस कर सकते हैं, क्योंकि कई बार ऐसा देखा गया है कि समय के अभाव के कारण कई बच्चे अपने माता-पिता से दूर होते जाते हैं। इसलिए यह खास तौर पर बताया जाता है कि अपने बच्चों के करीब रहने की एवं उनका खास ध्यान रखने के लिए सबसे महत्त्व महत्वपूर्ण है कि आप उन्हें समय दे, उनके साथ थोड़ा वक्त बिताएं, थोड़ा खेलें ताकि आपके बच्चे हमेशा आपके साथ बिताए पलों में खुश हो और कभी भी उनके चेहरे पर किसी भी बात को लेकर बिल्कुल भी उदासी ना आने दे। हमेशा यह कोशिश करें कि अपने बच्चों के लिए सबसे सर्वश्रेष्ठ साबित हो जो सबसे पहले हो।

Read this also….HOW TO GET RID OF THE ADDICTION TO GADGETS IN CHILDREN

अपने बच्चों को अपना प्यार दिखाएं

Effectively Parenting Tips

इस दुनिया में एक मां-बाप ही वह शख्स होता है जो अपने बच्चों को बिना किसी शर्त के प्यार करता है तो आपकी जिम्मेदारी है कि अपने बच्चों के सामने इस को दर्शाएं कि आपका प्यार दिखावा नहीं है। बेवजह या छोटी-छोटी बातों पर अपने बच्चों को दोष देना और उनकी आलोचना करने से बचें। भले ही बच्चे आप से ना कहे पर उनके मन में कहीं न कहीं आपके लिए नाराजगी पैदा हो जाती है जो कभी भी नहीं होनी चाहिए।

एक पेरेंट्स को अपने लिए और अपने बच्चों के लिए एक सही समय का प्रबंधन करना जरूरी होता है। जहां हर जगह अपना ध्यान बंटाने से ज्यादा यह जरूरी है कि किसी एक जगह सही तरह से केंद्रित हो। कई बार यह होता है कि आपका प्यार बच्चों को कभी समझ नहीं आता है। जहां कई बार आप बच्चों के सामने स्वार्थी साबित हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण है कि वह सही तरीका अपनाएं जिसके माध्यम से वह बच्चों को अपना प्यार दिखा सके।
इसके लिए आप चाहे तो अपने बच्चों के साथ उनकी स्कूल जा सकते हैं या उनके दोस्तों के साथ थोड़ी मस्ती कर सकते हैं। हालांकि इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप अपने बच्चों को सही तरह से समझे और उन्हें प्यार करें।

Read this also….STUDY TIPS:- THE WORST AND BEST PSYCHOLOGICAL HABITS IN HINDI.

बच्चों की खास देखभाल करें

बच्चों का खास देखभाल करना इसलिए भी जरूरी माना जाता है ताकि आप कुछ समय अपने बच्चों की शारीरिक रूप से भी देखभाल कर सकें। इससे आपको लाभ यह होता है कि आप अपने बच्चों की आवश्यकता से पूरी तरह रूबरू हो जाते हैं और धीरे-धीरे आपको अपने बच्चों के जीवन में दिलचस्पी होनी शुरू हो जाती है। यदि आपके पास समय की कमी है तो भी आप अपने बच्चों के साथ तरह-तरह की गतिविधियों में भाग ले सकते हैं। इस प्रक्रिया में आप भी और आपके बच्चे भी पूरी तरह से आनंद लेते हैं।

इसके अलावा एक महत्वपूर्ण बात जो आपको बता दे कि खेल खेल में अपने बच्चों से ऐसे सवाल पूछे जो आपके विचारों भावनाओं और अनुभव को सामने लाएं। यह सबसे जरूरी इसलिए भी माना जाता है, क्योंकि कई बार यदि आप घर से दूर रहते हैं तो आपको आपके बच्चों से जुड़ी सभी बातें पूरी तरह से पता नहीं होती है। जहां ऐसा करने से आप आसानी से अपने बच्चों की पसंद और नापसंद को अच्छी तरह से जान पाते हैं और उसके अनुसार आप खुद को आगे के लिए तैयार कर सकते हैं।
जिसकी मदद से आप के बच्चे आपको और भी ज्यादा प्यार करते हैं और दोनों के रिश्तो में काफी नजदीकी आती है।

Read this also….TOP 10 PARENTING MISTAKES WE SHOULD AVOID

बच्चों की सोच और उनके विचार को बढ़ावा दे

अपने बच्चों में नैतिक विचार उत्पन्न करें और इनके साथ ही साथ उनके विचारों को प्रोत्साहित करने का प्रयास करें। इसके अलावा एक जरूरी बात जो बच्चों को सिखाने चाहिए कि उन नैतिक समस्याओं के खिलाफ आवाज उठाएं और कार्रवाई करें जो उन्हें शारीरिक एवं मानसिक रूप से प्रभावित करती है। इससे आपके बच्चों में एक नई विचार का निर्माण होता है जो उन्हें सबसे सतर्क और सुचारू रूप से सक्रिय बनाता है।

इसके अलावा अपने और बच्चों के बीच आने वाले सारी बाधाओं को पूरी तरह से दूर करने का प्रयास करें। इससे आपके बच्चे अपने विचार पूरी तरह से बिना कोई झिझक से आपसे साझा कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने बच्चों की सभी तरह से भावनाओं से जुझने के लिए भी सिखा सकते हैं ताकि वह बिना अपने पेरेंट्स की मदद से हर परिस्थिति को आसानी से सामना कर सके।
आप अपने बच्चों के विचारों को प्रोत्साहित करने के लिए पहले यह अवश्य जाने कि वह चाहती क्या है और उन्हें यह समझाएं कि जीवन में कैसे किसी चीज को हासिल करने के लिए संघर्ष करना पड़ता है, जिससे आपने अपने समय में काफी अच्छी तरह से अनुभव किया है। ऐसा करने से आपके बच्चे आप से भी अधिक सक्रिय बनते हैं और जीवन में आगे बढ़ते हैं।

Read this also…THE TOP 10 PARENTING TIPS FOR CHILDREN IN HINDI.

बच्चों की बातों को ध्यान पूर्वक सुने

बच्चों की बातों को कभी भी अनसुना ना करें ऐसा करने से बच्चों के दिमाग में यह गलत धारणा बनती है कि उनकी बातें आपके लिए बिल्कुल भी महत्वपूर्ण नहीं है। इसलिए अपने बच्चों से पूरी तरह संचार करें और उनकी परेशानियों को केवल सुने नहीं बल्कि उनका निवारण भी पूरी तरह से करने की कोशिश करें। ऐसा करने से आप अपने बच्चों के लिए एक सुपर मॉडल बन जाते हैं जो उनकी सारी परेशानियों को चुटकी में खत्म कर देता है। इसके अलावा आपको बता दें कि बच्चे खास रूप से देखभाल की आशा करते हैं ताकि वह सबसे पहले अपनी बात आपको आकर बताएं और आप उनकी समस्याओं का हल करें।

कई बार यह होता है कि बच्चे अपने पेरेंट्स को किसी खास चीज के लाने की जिद करते हैं या अपने स्कूल मे हो रहे टीचर्स मीटिंग के बारे में बताते हैं पर उनके पेरेंट्स इस बात को भूल जाते हैं जिस वजह से इन महत्वपूर्ण बातों पर लापरवाही बरतना यह दर्शाता है कि आप अपने बच्चों को लेकर बिल्कुल भी आश्वस्त नहीं है।
इसलिए इस तरह की परिस्थितियों से बच्चे और हमेशा अपने बच्चों की बातों को प्राथमिकता दें और ध्यान पूर्वक इसे पूरा करने की कोशिश करें और हमेशा एक सर्वश्रेष्ठ पेरेंट्स बनकर दिखाएं।

Read this also…FATHER DAUGHTER RELATIONSHIPS GOALS IN HINDI.

बच्चों की परेशानी को हल करने का प्रयास करें

जब भी बच्चे किसी बात से परेशान हो तो ऐसी स्थिति में उन्हें अकेला छोड़ने की गलती ना करें। आप यह जरूर कोशिश करें कि आप अपने बच्चों की समस्याओं का समाधान कर पाए आपको बता दें कि या तो आपके बच्चे अपने मिले होमवर्क से या किसी अन्य गतिविधियों से परेशान हो सकते हैं पर यह भी होता है कि आप यदि उनसे पूछते नहीं हो तो आपको बताने में वह जी सकते हैं इसलिए हमेशा इस कोशिश में रहेगी अपने बच्चों की प्रतिक्रियाएं देखकर समझने का प्रयास करें कि उन्हें किस तरह की परेशानी है।

आप अपने बच्चों के लिए वह सबसे पहला सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति बने जो उनके लिए कुछ भी करने को तैयार हो उनके परिस्थितियों का निवारण आसानी से कर सके ऐसा करने से आप अपने बच्चों के लिए सबसे सर्वश्रेष्ठ हो जाते हैं और एक पेरेंट्स के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है कि वह अपने बच्चों के लिए एक सुपर हीरो साबित हो जिनके पास सभी परेशानियों का हल हो।

Read this also….PARENTING TIPS: IMPORTANCE OF PARENTING IN CHILDHOOD LEARNING IN HINDI 2019.

हमेशा बच्चों की खुशी का ध्यान रखें

इस बात से वह एक ही शख्स रूबरू होता है कि उनके बच्चों को किस बात से खुशी मिलती है वह आपके पेरेंट्स होते हैं, क्योंकि वह आपकी खुशी के लिए अपनी सारी कोशिशें आजमा देते हैं। ताकि आपकी सारी ख्वाहिशें पूरी हो सके पर एक जरूरी बात जो आपके लिए जान नहीं बहुत जरूरी है कि हर वक्त अपने बच्चों की खुशी के लिए उनके आगे झुकना भी कई बार गलत साबित हो जाता है, क्योंकि इससे बच्चों को यह प्रतीत हो जाता है कि वह आपसे कुछ भी मांगे आप उन्हें लाकर दे देंगे तथा इस तरह की परिस्थितियों से स्वयं बचने का प्रयास करें।

जहां हमेशा बच्चों की खुशी का ध्यान उसी स्थिति में रखा जाए जो बच्चों के लिए आवश्यक हो और काफी जरूरतमंद हो ऐसा इसलिए क्योंकि ऐसी चीजों से बच्चों की जरूरत ही भी पूरी हो जाती है और उससे बच्चों में ज़िद की भावना भी उत्पन्न नहीं होती है। इसलिए हमेशा बच्चों की खुशी का सही तरह से ध्यान रखना एक पेरेंट्स की सबसे सर्वश्रेष्ठ जिम्मेदारी मानी जाती है।

उनकी गलतियों पर उन्हें समझाएं

यह एक सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों में से एक मानी जाती है कि जब भी आपके बच्चे गलती करें तो उन्हें इस बात पर समझाएं और उन्हें उनकी गलती का एहसास दिलाए। ऐसा करने से आपके बच्चे वह गलती ना ही कभी दोबारा दोहराएंगे और ना ही करने की सोचेंगे। अन्यथा यदि आप उनकी गलतियों पर पर्दे डालेंगे और उन्हें बढ़ावा देंगे तो वह बार-बार अपनी गलतियों को दोहराएंगे और एक समय ऐसा आएगा कि आप के लाख मना करने पर भी आपकी एक बात का ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

इसलिए समय रहते बच्चों को गलत और सही कहा अंदाजा लगाना और सही चीजों का ज्ञान देना मुझे एक पेरेंट्स के लिए सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है।

बच्चों को माफ करना सिखाए

माफी मांगना और माफ करना दोनों ही एक सर्वश्रेष्ठ इंसान की निशानी है, जो अपनी गलतियों पर दूसरों के आगे झुकता हो और जो किसी की गलतियों को भुलाकर उसे माफ कर देता हो। वही एक सही इंसान माना जाता है तो आप बिल्कुल उम्मीद करते होंगे कि आपके बच्चे भी ऐसे ही हो तो इस बात का ध्यान रखें कि हमेशा आपके बच्चे गलत चीजों से दूर रहें और यदि उनसे गलती हो जाए तो इस बात पर उन्हें माफी मांगना जरूर सिखाएं, क्योंकि यह तो आपको भी पता है माफी मांगने से कोई बड़ा या छोटा नहीं हो जाता।

माफी मांगने से सामने वाला इंसान ना चाहते हुए भी आप की गलतियों को बुलाकर वह आपको माफ कर देता है।इसलिए अपने बच्चों को गलती पर माफी मांगना और माफ करना जरूर सिखाएं।

हमेशा दूसरों की मदद करें

यदि आप इस धारणा से पूरी तरह परिचित हैं तो अवश्य यह आपको अपने बच्चों को भी सिखाना चाहिए कि दूसरों की मदद करें क्योंकि कहा जाता है यदि आप दूसरों की मदद करेंगे तो आपकी मुसीबत में भी कोई आपकी मदद करेगा इसलिए हमेशा जरूरत पड़ने पर दूसरों को सहायता जरूर प्रदान करें।

एक मानव होने का फर्ज निभाएं और जब भी अपनी आंखों के सामने किसी को मुसीबत में देखें तो उनकी मदद के लिए अवश्य जाएं इस तरह की शिक्षा अपने बच्चों को उनके आने वाले कल को बेहतर बनाने के लिए दी जानी चाहिए।

Leave a Comment